नई दिल्ली: पैराडाइज पेपर्स लीक ने दुनियाभ में खलबली मचाकर रख दी है. दुनिया के सबसे ताकतवर शख्स अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडू, क्वीन एलिजाबेथ से लेकर भारत में अमिताभ बच्चन, केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा, विजय माल्या, नीरा राडिया, मान्यता दत्त जैसे कई नाम हैं जो इस लिस्ट में शामिल हैं. सोशल मीडिया ट्विटर पर पैराडाइज पेपर्स रात से ही ट्रेंड कर रहा है. सोशल मीडिया पर इस मामले को लेकर खूब चुटकी भी ली जा रही है. रविवार रात से ही लोग ट्विटर पर लोग ऐसे ऐसे कमेंट्स कर रहे हैं जिन्हें सुनकर आपका हंसते हंसते पेट फूल जाएगा. ऐसे ही कुछ मजेदार ट्वीट्स से आपको रूबरू करवाते हैं. 
 
क्या है पैराडाइज पेपर्स लीक मामला?
जर्मन अखबार स्यूडेडेश्स्क ज़ितुंग ने बरमूडा की कंपनी एप्पलबी, सिंगापुर की कंपनी एसियासिटी ट्रस्ट और टैक्स चोरों के स्वर्ग समझे जाने वाले 19 देशों में कराई गई कार्पोरेट रजिस्ट्रियों से जुड़े करीब एक करोड़ 34 लाख दस्तावेज हासिल किए थे. इस अखबार ने ये करोड़ों दस्तावेज आईसीआईजे के साथ साझा किए जिसमें दुनियाभर की 96 मीडिया कंपनियां शामिल हैं. पैराडाइज पेपर्स में कुल 180 देशों के लोगों के नाम शामिल हैं जिसमें से भारत 19वें नंबर पर है. बता दें कि कुल 714 भारतीयों के नाम भी इस लिस्ट में शामिल बताए जा रहे हैं.

पैराडाइज पेपर्स लीक के बाद एक के बाद एक हो रही कई खुलासों को लेकर पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने चुटकी ली है. हार्दिक ने आधार कार्ड को हर सरकारी सुविधा से लिंक कराने के सरकार के फैसले पर चुटकी लेते हुए कहा है कि क्या अब आधार कार्ड को स्विस बैंक के अकाउंट से भी लिंक कराना पड़ेगा? गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ जमकर हमला बोल रहे हार्दिक पटेल ने कहा कि सरकार को जहां बेरोजगारी और शिक्षा पर काम करना चाहिए वहीं वो आधार कार्ड जैसे मुद्दों पर काम कर रही है. जनसभा की फोटो सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए हार्दिक पटेल ने कहा कि ये लोग मेरे साथ नहीं बल्कि उनके मुद्दों की लड़ाई में मेरे साथ हैं. उन्होंने आगे लिखा कि मैं सोच रहा हूं कि आधार कार्ड को स्विस बैंक के खातों से कब जोड़ा जाएगा?

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App