नई दिल्ली: पैराडाइज पेपर्स लीक मामले में बीजेपी के बिहार से राज्य सभा सांसद और पूर्व पत्रकार रविंद्र किशोर सिन्हा से जब पत्रकारों ने बातचीत करनी चाही तो उन्होंने बड़े ही दिलचस्प अंदाज में इसका जवाब दिया. लिस्ट में नाम सामने आने पर पत्रकार द्वारा पूछे गए सवाल पर रविंद्र किशोर सिन्हा ने कलम मांगते हुए पेपर पर लिखा कि ‘7 दिनों के भागवत यज्ञ में मौनव्रत है’. रविंद्र किशोर सिन्हा इतना कहते हुए आगे बढ़ गए. 2014 में वह राज्य सभा सांसद से चुने गए थे, गौरतलब है कि इससे पहले रविंद्र किशोर सिन्हा पत्रकार भी रह चुके हैं. 
 
पैराडाइज पेपर्स लीक मामले में रवींद्र किशोर सिन्हा की कंपनी एसआईएस सिक्यॉरिटीज का नाम भी शामिल है, दस्तावेजों में स्पष्ट है कि इस कंपनी की विदेश में दो अन्य कंपनियां है. माल्टा रजिस्ट्री के रेकॉर्ड के मुताबिक एसआईएस सिक्यॉरिटीज की सहायक कंपनी एसआईएस एशिया पैसिफिक होल्डिंग्स (SAPHL) 2008 में माल्टा में रजिस्टर्ड हुई थी, बता दें कि इस कंपनी की निर्देशक रवींद्र किशोर सिन्हा की पत्नी रीत किशोर हैं. SIHL (एसआईएस इंटरनैशनल होल्डिंग्स लिमिटेड) ब्रिटिश वर्जिन द्वीप समूह में शामिल है जिसके SAPHL में 3, 999,999 शेयर हैं. 
 
 
क्या है पैराडाइज पेपर्स लीक मामला
 
जर्मन अखबार स्यूडेडेश्स्क ज़ितुंग ने बरमूडा की कंपनी एप्पलबी, सिंगापुर की कंपनी एसियासिटी ट्रस्ट और कर चोरों के स्वर्ग समझे जाने वाले 19 देशों में कराई गई कार्पोरेट रजिस्ट्रियों से जुड़े करीब एक करोड़ 34 लाख दस्तावेज लीक करके हासिल किए थे. इस अखबार ने ये करोड़ों दस्तावेज आईसीआईजे के साथ साझा किए. आईसीआईजे में दुनियाभर की 96 मीडिया कंपनियां शामिल हैं. पैराडाइज पेपर्स में कुल 180 देशों के लोगों के नाम शामिल हैं जिसमें से भारत 19वें नंबर पर है. बता दें कि  कुल 714 भारतीयों के नाम भी इस लिस्ट में शामिल बताए जा रहे हैं.
 
पैराडाइज पेपर्स खुलासा: पनामा पेपर्स के बाद पैराडाइज पेपर्स में भी अमिताभ बच्चन का नाम !
 

पैराडाइज पेपर्स खुलासा: पनामा पेपर्स के बाद पैराडाइज पेपर्स में भी अमिताभ बच्चन का नाम !

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर