नई दिल्ली: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को छठ की तैयारियों का जायजा लेने के लिए अधिकारियों के साथ बैठक की. अधिकारियों ने बताया कि छठ पूजा के लिए इस साल 457 घाट बनाए गए हैं और जिन घाटों पर पूजा होनी है उन सभी को चिह्नित कर लिया गया है. पूजा से दो-तीन दिन पहले श्रद्धालुओं की सुविधा के सभी इंतजाम कर दिए जाएंगे. बता दें कि पिछले साल दिल्ली सरकार ने 300 घाटों का इंतजाम किया था, इस बार यह संख्या और बढ़ा दी गई है. इसके अलावा केजरीवाल सरकार ने पार्टी विधायकों को भी अपने इलाके में छठ पूजा की तैयारियों की देख-रेख का जिम्मा सौंपा गया है. दिल्ली सरकार के मंत्री गोपाल राय ने फरवरी में ही छठ पूजा के लिए यमुना नदी के सभी घाटों को पक्का करने का निर्देश दिया था. घाटों को पक्का करने के लिए एक कमेटी भी बनाई गई थी लेकिन अभी तक घाट पक्के नहीं हो पाए. 
 
केजरीवाल छठ पूजा के लिए तैयारियों पर अधिकारियों के साथ बैठक के लिए दिल्ली सचिवालय में पहुंचे थे, तभी उनकी नीले रंग की वेगन आर कार चोरी हो गई. मगर अभी तक ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि जिस वक्त कार चोरी हुई उस वक्त सीएम बैठक में मौजूद थे या नहीं. द‌िल्ली सच‌िवालय का इलाका राजधानी के सबसे सुर‌क्ष‌ित और पॉश इलाकों में आता है. वहां से मुख्यमंत्री की कार चोरी हो जाना द‌िल्ली की सुरक्षा व्यवस्था पर बड़े सवाल खड़े करता है.बताया जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल की चर्चित नीले रंग की वेगन आर कार दिल्ली सचिवालय गेट नंबर 3 के ठीक सामने से चोरी हो गई है. हांलाकि उस गाड़ी को श्री रावेन्द्र पाल सिंह की पुत्री वंदना सिंह चलाती थीं. बताया जा रहा है कि ये घटना करीब एक बजे के आस-पास की है.
 
बता दें कि ये वही कार है, जिससे रामलीला मैदान में अन्ना हजारे से लेकर 49 दिन की राजनिती में केजरीवाल चलते थे. दरअसल चुनाव जितने के बाद केजरीवाल ये कार अपनी पार्टी वॉलेंटियर वंदना सिंह को दे दिया था. तब से ये गाड़ी वही चलाती थीं. दरअसल, वंदना का सचिवालय रोज का आना-जाना लगा रहता है. इसलिये वंदना ने मारुति कंपनी की डार्क नीला वेगन आर गाड़ी, जिसका नंबर DL – 3CG 9769 था, उसे सचिवालय के गेट नंबर तीन के ठीक सामने वाली रोड पर खड़ी कर दी थी.