सिरसा: एसआईटी ने खुलासा किया है कि 2 साध्वियों के साथ रेप के मामले में राम रहीम के 20 साल के लिए जेल जाने के बाद हनीप्रीत ने ही पंचकूला दंगे का मास्टर प्लान तैयार किया था. SIT के मुताबिक हनीप्रीत ने ही देश विरोधी वीडियो बनाकर वायरल किया. जिसमें राम रहीम के समर्थन में नारेबाजी हो रही थी. SIT ने कहा कि वायरल वीडियो के सबूत हनीप्रीत के मोबाइल और लैपटॉप में हैं, जिन्हें बरामद किया जाना है. टीम ने कहा कि पंचकूला हिंसा में वांटेड आदित्य और पवन इंसां हिमाचल प्रदेश में हैं. उनके ठिकाने हनीप्रीत जानती है. 
 
उधर डेरा प्रमुख के पीए राकेश ने पुलिस को बताया है कि पंचकूला हिंसा में हनीप्रीत ने ब्लैकमनी का इस्तेमाल किया था. पंचकूला में 25 अगस्त को हुई आगजनी और उपद्रव के लिए धनराशि भी हनीप्रीत के आदेश पर ही बंटवाई गई थी. पंचकूला हिंसा में शामिल 4 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. ये चारों हिंसा के दौरान बनी वीडियो में दिखे थे. सिरसा डेरा की चेयरपर्सन विपासना इंसा से SIT गुरुवार को पूछताछ करेगी. पिछली बार सेहत का हवाला देकर विपासना SIT के सामने पेश नहीं हुई थी. 
 
जांच के दौरान हरियाणा पुलिस को ऐसे कई फोन कॉल्स के बारे में पता चला था जिनमें लोगों को हिंसा के लिए तैयार होने की बात कही जा रही थी. पंचकूला के पुलिस कमिश्नर ए. एस. चावला का कहना था कि अलग-अलग फोन कॉल में लोगों को पंचकूला कोर्ट के बाहर इकट्ठा होने और हिंसा करने के संदेश दिए गए थे. इसी वजह से डेरा समर्थकों ने इतना उपद्रव मचाया था. बता दें कि 25 अगस्त को गुरमीत को दोषी पाए जाने के बाद पंचकूला में हुई हिंसा में 30 से अधिक लोगों की जान चली गई थी. इस हिसा में कई लोग घायल हुए थे और 100 से ज्यादा गाड़ियों में आग लगा दिया गया था. डेरा समर्थकों ने मीडियाकर्मियों पर भी हमले किए थे.
 

बता दें कि बीते 25 अगस्त को डेरा प्रमुख राम रहीम को साध्वियों से रेप का दोषी ठहराए जाने के बाद से हनीप्रीत फरार चल रही थी. 38 दिनों तक फरार रहने के बाद हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत को गिरफ्तार किया था. सात राज्यों और दो देशों की पुलिस हनीप्रीत की तलाश कर रही थी. हनीप्रीत पर राम रहीम को कोर्ट से भगाने की साजिश रचने का आरोप है. 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद सुरक्षाबलों ने इस साजिश को नाकाम कर दिया था.