आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा जिले के कटरा वजीर खान इलाके में मंगलवार देर शाम सेना के एक सेवानिवृत्त मेजर के पोते ने 100 रुपये की मामूली रकम को लेकर हुए विवाद में एक मजदूर की बेरहमी से हत्या कर दी. हत्या के बाद मंगलवार देर रात क्रुद्ध भीड़ ने हत्यारोपी के घर पर हमला बोल दिया. भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को रबर की गोलियां दागनी पड़ी. उपद्रव के बाद पसरे तनाव को देखते हुए इलाके में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है.

पुलिस ने बताया कि सेवानिवृत्त मेजर एम.एल. उपाध्याय के बेटे मोहन ने घर के सामने बने मंदिर की मरम्मत कराई थी. इसमें मजदूरी के लिए पड़ोस में रहने वाले पप्पू जाटव (38) के सौ रुपये बाकी थे. मंगलवार शाम रुपये को लेकर दोनों में कहा-सुनी और गाली-गलौज हुई. थोड़ी देर बाद मोहन का बेटा जय कृष्ण, पप्पू को घर से खींचकर अपने घर के सामने ले गया और वहां पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी.

पुलिस के अनुसार, हत्या की खबर लगते ही पप्पू के परिजनों के साथ बस्ती के लोगों ने देर रात मोहन के घर पर हमला बोल दिया और एम. एल. उपाध्याय को पीट-पीटकर लहूलुहान कर दिया. इसके बाद भीड़ ने घर के सामने खड़ी दो मोटरसाइकिलों को आग के हवाले कर दी और तोड़-फोड़ की.  हत्या के बाद उपद्रव की सूचना पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश डी. मोदक पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे. भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज और रबर बुलेट का सहारा लेना पड़ा. देर रात तक बस्ती में तनाव की स्थिति देखते हुए इलाके में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया.घायल उपाध्याय को सरोजिनी नायडू मेडिकल कॉलेज के आपात विभाग में भर्ती कराया गया है. इस बीच पप्पू के परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने जयकृष्ण, मोहन और उसके चाचा शशि के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी घटना के बाद से फरार बताए जा रहे हैं. थाना प्रभारी शैलेंद्र सिंह ने बताया कि आरोपियों की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं.

 

तस्वीर-सिम्बॉलिक 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर