वाराणसी: साध्वी से रेप के दोषी राम रहीम को आज सीबीआई कोर्ट ने 20 साल कैद की सज़ा सुनाई है. दोनों मामलों में 10-10 साल कैद की सज़ा सुनाई गई है. इसके साथ ही, दोनों केस में राम रहीम पर 15-15 लाख का जुर्माना लगाया है. उत्तर प्रदेश के वाराणसी में साधु-संतों ने राम रहीम के खिलाफ प्रदर्शन किया और आरोप लगाया कि ऐसे लोग संत समाज को बदनाम कर रहे हैं. साधु संतों ने कहा है कि राम रहीम जैसे लोग सनातन धर्म को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं. धर्म के नाम पर ये लोग इस तरह की घिनौनी हरकत करते हैं और इन जैसे लोगों की वजह से पूरे समाज को शर्मिंदगी होनी पड़ती है. नाराज संतों ने ‘सनातन धर्म के दोषी को फांसी दो-फांसी दो’ का नारा लगाया. दशाश्वमेध घाट पर सोमवार को साधुओं ने राम रहीम के प्रति विरोध दर्ज कराया.
 
नागा पगला बाबा ने कहा कि हम भष्म का श्रृंगार और लंगोट धारण कर मोह माया से दूर प्रभु शिव शंकर की भक्ति में जीवन काट रहे हैं. ये राम रहीम जैसे लोग फिल्म का हीरो भी बनता है. करोड़ों-अरबों की संपत्ति का मालिक है. हेलीकॉप्टर से भी घूमता है. जो सही में संत होता है, उन्हें इन चीजों की क्या आवश्यकता है. ये लोग संत की श्रेणी में नहीं आते. बता दें कि साध्वी से रेप के दोषी राम रहीम को आज सीबीआई कोर्ट ने 20 साल कैद की सज़ा सुनाई है. दोनों मामलों में 10-10 साल कैद की सज़ा सुनाई गई है. इसके साथ ही, दोनों केस में राम रहीम पर 15-15 लाख का जुर्माना लगाया है. जिसमें से 14-14 लाख रुपए दोनों पीड़िता को मिलेंगे. कोर्ट में राम रहीम ने खूब रोना-धोना मचाया, खूब ड्रामा किया लेकिन सब बेकार गया.
 
राम रहीम को कोर्ट ने साध्वियों का यौन शोषण का दोषी मानते हुए आईपीसी की धारा 376 और 506 के तहत दो अलग-अलग मामलों के लिए दस-दस साल की सजा सुनाई. सजा का ऐलान होते ही डेरा के गुंडों की गुंडागर्दी की भी घटना देखने को मिली है. बताया जा रहा है कि डेरा के गुंडों ने सिरसा में दो गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया है. राम रहीम ने कोर्ट से बिमारी का बहाना भी किया जिसे कोर्ट ने सिरे से खारिज कर दिया. राम रहीम को सजा के बाद कोर्ट रूम से बारह निकाला गया जहां से उन्हें मेडिकल टेस्ट के लिए ले जाया गया. यहां उन्हें मेडिकल टेस्ट के बाद जेल के कपड़े दिए गए. जानकारी के मुताबिक जेल में राम रहीम को कैदी नंबर 1997 बनाया गया है. बता दें कि इससे पहले 25 अगस्त को सीबीआई कोर्ट ने इस मामले में राम रहीम को दोषी माना था और सजा के ऐलान की तारीख आज यानी कि 28 अगस्त को मुकर्रर कर दी थी. राम रहीम को दोषी साबित करने के बाद पंचकुला और सिरसा में भयंकर हिंसा की घटना देखने को मिली थी. राम रहीम पर यह मामला 15 साल पहले का है. उस वक्त डेरा सच्चा सौदा की एक साध्वी ने राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप लगाते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस और हरियाणा के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा था.
 
 
 

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर