नई दिल्ली: मुंबई में BMC से संचालित स्कूलों में हफ्ते में दो बार वंदे मातरम गाना अनिवार्य कर दिया गया है. इस बाबत BMC में प्रस्ताव पारित हो गया है. बीएमसी के स्कूलों में राष्ट्रगीत गाए जाने के आदेश का AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने विरोध जताया है.
 
ओवैसी ने कहा है कि बीजेपी का असली एजेंडा हिंदुत्व को बढ़ावा देना है. सरकार को इस तरह की हरकत करने से बचना चाहिए. वंदे मातरम गाना है या नहीं ये आम आदमी को तय करने दें, सरकार जबरदस्ती इसको थोप रही है.
 
 
बता दें कि बीएमसी की गुरुवार को जीबीएम में गोरेगांव से बीजेपी कॉर्पोरेटर संदीप पटेल ने यह प्रस्ताव रखा था. प्रस्ताव में कहा गया था कि बीएमसी के सभी स्कूलों में हफ्ते में 2 बार ‘वंदे मातरम्’ गाया जाना अनिवार्य हो. उनका कहना था कि ऐसा करने से बच्चों में देशभक्ति की भावना बढ़ाई जा सकेगी. उन्होंने राष्ट्रगीत को बीएमसी की सभी वैधानिक समिति की बैठकों में गाए जाने का सुझाव भी दिया.
 
मुंबई के स्कूलों के बाद अब यूपी के सरकारी मदरसों में भी राष्ट्रगान को अनिवार्य कर दिया गया है. यूपी में योगी सरकार की मदरसा काउंसिल ने सभी सरकारी मदरसों में 15 अगस्त का कार्यक्रम मनाने का नोटिस भेजा है. योगी सरकार के फैसले पर मुस्लिम संगठनों ने ऐतराज जताया है. 
 
 
मदरसा संगठनों का कहना है कि सरकार उन्हें व उनकी देशभक्ति को शक की नजर से देख रही है. बता दें कि योगी सरकार के नोटिस में तय कर दिया गया है कि मदरसों में आजादी का जश्न किस तरह धूमधाम से मनाया जाएगा. सुबह 8 बजे तिरंगा फहराया जाएगा, उसके बाद राष्ट्रगान यानी जन-गण-मन गाया जाएगा. 
 
 
बता दें कि गुरुवार को ही मुंबई के बीएमसी ने एक प्रस्ताव पारित किया है इसके मुताबिक उसके अंतर्गत चलने वाले सभी स्कूलों में हफ्ते में दो बार वंदे मातरम अनिवार्य होगा. बीएमसी में पास हुए इस प्रस्ताव को कमिश्नर के पास स्वीकृति के लिए भेजा गया है.