चंडीगढ़. वर्णिका कुंडू केस मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है. बुधवार को पुलिस ने आरोपी विकास बराला को पूछताछ के लिए समन भेजा था, मगर समन के बावजूद भी विकास बराला पुलिस के सामने पेश नहीं हुए. बता दें कि इस मामले में विकास बराला से बुधवार को 11 बजे पूछताछ होनी थी. 
 
पुलिस के समन के बावजूद विकास बराला के नहीं पहुंचने पर अब उनकी मुश्किलें बढ़ सकती है. इस इनकार के बाद अब विकास बराला के ऊपर गिरफ्तारी की तलवार लटक गई है. इसके अलावा मेडिकल रिपोर्ट में भी अब इस बात की पुष्टि हो गई है कि विकास बराला घटना के दिन शराब पीकर गाड़ी चला रहे थे और वर्णिका कुंडू की गाड़ी का पीछा कर रहे थे. 
 
इससे पहले पुलिस ने जब विकास बराला को समने भेजा था, तो उसे लेने से विकास ने साफ इनकार कर दिया था. इसके बाद पुलिस उनके सेक्टर-7 स्थित घर पर ही समन को चिपका दी थी. इस मामले में विकास के दोस्त को भी पूछताछ के लिए पुलिस ने समन भेजा था. 
 
 
हालांकि, इससे पहले मंगलवार को विकास बराला के पिता और राज्य के बीजेपी अध्यक्ष सुभाष बराला मीडिया के सामने पहली बार चुप्पी तोड़ते हुए कहा था कि वर्णिका उनकी बेटी जैसी हैं और वर्णिका को न्याय मिलना चाहिए. वह अपने बेटे को बचाने के लिए किसी तरह का दबाव नहीं बना रहे हैं. कानून को अपना काम करना चाहिए. 
 
बता दें कि सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष पर चंडीगढ़ के वरिष्ठ आईएएस अधिकारी वीएस कुंडू की बेटी वर्णिका कुंडू का पीछा करने और अपहरण की कोशिश का आरोप है.  
 
 
गौरतलब है कि कांग्रेस समेत विपक्षी पार्टियों का आरोप है कि केंद्र और राज्य की बीजेपी की सरकार पुलिस की कार्यवाई पर दबाव डाल रही है. साथ ही कांग्रेस इस्तीफे की मांग भी कर रही है. साथ ही कांग्रेस का आरोप है कि केंद्र और राज्य की सरकारें विकास और सुभाष बराला को प्रोटेक्ट कर रही है.