नई दिल्ली: व्हाट्सऐप ऐप के डाटा को फेसबुक से जोड़ने के मामले की सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट ने 5 जजों की संवैधानिक पीठ को सौंपने के आदेश दिए हैं और यह सुनवाई सुप्रीम सुप्रीम कोर्ट 18 अप्रैल को करेगा.
 
सुप्रीम कोर्ट यह यह करेगा कि संविधान पीठे सामने क्या मुद्दे होंगे. इसके पहले  CJI खेहर ने पहले ही कहा था कि ये मामला क्या राइट टू  प्राइवेसी का हनन है? इसकी सुनवाई छुट्टियों मे संविधान पीठ करेगी . बता दें कि इसके लिए वकीलों की मांग थी कि सुनवाई सात जजों की बेंच करे. 
 
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने व्हॉटसऐप की प्राइवेसी को लेकर व्हाटसऐप और फेसबुक को नोटिस भेजा था. दरअसल सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है कि फेसबुक और वाट्सऐप पर डेटा सुरक्षित नहीं है और यह देश के संविधान के आर्टिकल 21 का उल्लंघन है और केंद्र सरकार द्वारा इसके लिए कोई नियम बनाया जाना चाहिए. 
 
बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में फेसबुक के नई पॉलिसी को चुनौती दी गई है जिसके तहत व्हॉटसऐप यूजर्स के प्राइवेट डाटा का इस्तेमाल फेसबुक बिजनेस के इस्तेमाल के लिए कर सकता है. याचिका में जोर देकर कहा गया है कि फेसबुक की यह पॉलिसी यूजर्स के राइट टू प्राइवेसी का हनन है.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर