नई दिल्ली. दिल्ली सरकार वैट दरो में संशोधन करके आपकी जेब पर बोझ बढ़ाने की सारी तैयारियां कर चुकी है. वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने विधानसभा में वैट संशोधन विधेयक पेश किया जिससे सरकार को डीजल, पेट्रोल, शराब, कोल्ड ड्रिंक्स आदि पर वस्तुओं पर वैट की दर बढ़ाने की छूट मिल जाएगी. उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने विधानसभा में वैट संशोधन विधेयक पेश किया.  संशोधन में वैट की दरो के अधिकतम दायरे में 10 फीसदी बढ़ोतरी का प्रस्ताव किया गया है.

वित को 20 से बढाकर 30 फीसदी किया जाएगा 
फिलहाल वैट की अधिकतम दर 20 फीसदी है उसे बढाकर 30 फीसदी तक किये जाने का प्रस्ताव है. जो वस्तुएं इसके दायरे में होंगी उनमें पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स, शराब, कोल्ड ड्रिंक्स, तम्बाकू जैसे 11  उत्पाद शामिल हैं. विपक्ष ने इस संशोधन को पिछले दरवाजे से जनता पर डाला गया बोझ बताया है. सवाल ये भी उठाया गया कि सरकार वैट के संशोधनों को बजट के बाद क्यों ले कर आई? हालांकि सरकार की कहना है कि उसने किसी भी उत्पाद पर वैट की दर को नहीं बढ़ाया है. वैट की दरों को लचीला बनाने के लिए संशोधन किए गए हैं. लेकिन इस संशोधन के पास होने के बाद सरकार को उपरोक्त वस्तुओं पर अधिकतम 30 फीसदी तक वैट लगाने की छूट मिल जाएगी.
 
आम लोगों के लिए चिंता की बात ये है कि दिल्ली में भविष्य में इस बढ़ोत्तरी से पेट्रोल-डीजल मंहगा हो सकता है. एल पी जी और पीएनजी, सीएनजी और केरोसीन को इस संशोधन से बाहर रखा गया है. फिलहाल दिल्ली में पेट्रोल पर 20% और डीजल पर 12.5% वैट है. पेट्रोल पर अधिकतम वैट लागू है. लेकिन संशोधन के बाद सरकार पेट्रोल पर वैट बढा सकेगी.