गांधीनगर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज 8वें वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन का उद्घाटन किया. उनहोंने इस दौरान एक कॉफी टेबल बुक और शिखर सम्मेलन से जुड़े नीतिगत दस्तावेजों का उद्घाटन भी किया. सम्मेलन में दिए भाषण में मोदी ने कारोबार को आसान बनाने, डिजिटलीकरण के महत्व और मेक इन इंडिया पर बात की. 
 
शिखर सम्मेलन में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं इस सम्मेलन में शामिल साझेदार देशों और अन्य संस्थानों, खासकर जापान और कनाडा के प्रति आभार व्य​क्त करता हूं.’ उन्होंने आगे कहा कि महात्मा गांधी और सरदार वल्लभभाई पटेल की जन्मभूमि गुजरात में कारोबार करने का उत्साह है. 
 
 
डिजिटलीकरण के महत्व पर जोर
नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘पिछले ढाई सालों में हमने सुशासन के पैमाने के आधार पर राज्यों के बीच स्वस्थ प्रतियोगिता का माहौल बनाया है. इस दौरान हमने देखा है कि एक लोकतांत्रिक प्रणाली में भी तुरंत परिणाम देना संभव होता है. हमारी नीतियों और अर्थव्यवस्था में बुनियादी बदलाव लाना हमारा सपना और उद्देश्य है.’
 
उन्होंने डिजिटल तकनीक के महत्व पर भी जोर डाला. मोदी ने कहा कि ये कार्य पूरा करने में डिजिटल तकनीक ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. मैं अक्सर कहता हूं कि ई-गवर्नेंस एक आसान और प्रभावी गवर्नेंस हैं. मुझ पर भरोसा करें हम दुनिया की सबसे बड़ी डिजिटल अर्थव्यवस्था बनने की बस दहलीज पर हैं. 
 
मेक इन इंडिया की तारीफ
पीएम मोदी ने कहा, ‘वैश्विक मंदी के बावजूद भी हमने एक बेहतरीन ​वृद्धि दिखाई है. भारत वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक चमकती जगह है. मेरी सरकार भारतीय अर्थव्यव्था में निरंतर सुधार के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और कारोबार को आसान बनाने पर सबसे ज्यादा जोर रही है.’
 
 
उन्होंने ‘मेक इन इंडिया’ अभियान की भी तारीफ की. मोदी ने कहा, ‘मेक इन इंडिया ऐसा ब्रांड बन गया है, जैसा भारत के पास कभी नहीं था. हम विश्व में छठे सबसे बड़ा विनिर्माता देश बन गए हैं. हम बड़े स्तर पर पर्यटन को बढ़ावा देना चाहते हैं और इसके लिए पर्यटन से जुड़े बुनियादी ढांचे की जरूरत है.’
 
बता दें कि पीएम मोदी 8वें वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन के लिए दो दिन के गुजरात दौरे पर हैं. इस सम्मेलन से 25 लाख से ज्यादा के निवेश होने की संभावना है. इस समिट में अमेरिका, यूके, ऑस्ट्रेलिया सहित 12 देशों के पार्टनर हिस्सा ले रहे हैं.