जयपुर: जयपुर में आयकर विभाग ने छापेमारी कर 2  करोड़ 2 लाख रूपये जब्त किये हैं. यह छापे बिल्फेर्ड एजुकेशन सोसाईटी द्वारा चालये जाने वाले बैंक में मारे गए हैं.

दरअसल यह सोसायटी द इंटीग्रन अर्बन कोआपरेटिव बैंक नाम से बैंक चलाती है. यहां आयकर विभाग ने छापा मार कर 2 करोड़ 2 लाख  रुपए की नकदी और ज्वैलरी जब्त की है. बड़ी बात यह है कि इस राशि में 1.38 करोड़ के दो हजार के नोट भी बरामद किये गए हैं.

छापेमारी के बाद से बैंक का मैनेजर फरार है. इससे पहले  एक्सिस बैंक की चांदनी चौक ब्रांच में आयकर विभाग ने छापा मारा था. दरअसल नोटबंदी के बाद बैंक में 450 करोड़ों रुपए जमा कराये गए थे. इस गड़बड़ी के लिए इनकम टैक्स विभाग बैंक के 5 अफसरों से पूछताछ की थी.

जानकारी हो कि पहले ही एक्सिस बैंक के दो मैनेजर गिरफ्तार हो चुके हैं. जांच में आयकर विभाग ने पाया है कि 44 बैंक खाते बिना केवायसी के खोले गए थे. इसका मतलब है कि इसमें नो योर कस्टमर के पैमानों का पालन नहीं किया गया है. ऐसे में यह अकाउंट्स फर्जी पाए गए.

इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय की टीम ने एक्सिस बैंक के दो मैनेजरों को तीन किलो सोने के साथ गिरफ्तार कर लिया था. ईडी की रेड में लखनऊ से ब्रिक्स बरामद की गईं थी. बैंक उन दोनों ही मैनेजरों को सस्पेंड कर चुका है. इसके अलावा एक्सिस बैंक ने नोटबंदी के बाद गैरकानूनी गतिविधियों में कथित तौर पर शामिल अपने 19 अधिकारियों को सस्पेंड  किया था.

इनमें छह कश्मीरी गेट शाखा के अधिकारी थे. बैंक के कार्यकारी निदेशक राजेश दहिया ने बताया था कि नोटबंदी के बाद से बैंक अपनी प्रक्रियाओं को कानून के अनुसार मजबूत करने के लिए लागातार काम कर रहा है.