नई दिल्ली. गृह मंत्रालय के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार खतरनाक आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिदीन के करीब 250 से भी ज्यादा आतंकवादी सीमापार से दाखिल हो चुके हैं. सूत्रों के अनुसार लश्कर कमांडर अबू दुजाना ने कश्मीर में हमला करने के लिए आतंकियों को तीन ग्रुप में बांट दिया है, जिसमें से एक ग्रुप को महिला कमांडर लीड कर रही है. इस महिला कमांडर का नाम फातीमा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
फातिमा कर रही है आतंकियों को लीड
सूत्रों के अनुसार दुजाना ने कश्मीर में हमला करने के लिए आतंकियों को तीन ग्रुप में बांट दिया है, जिसमें से एक ग्रुप को महिला कमांडर लीड कर रही है. इस आतंकी महिला कमांडर का नाम फातिमा है. कश्मीर में मौजूद ये महिला पाकिस्तान की तरफ से निर्देश ले रही है. आतंकियों के दूसरे ग्रुप को अबू उसामा लीड कर रहा है, जबकि तीसरे ग्रुप को लश्कर का आतंकी हम्माद लीड कर रहा है. ये तीनों आतंकी लश्कर कमांडर अबू दुजाना से हमले के निर्देश ले रहे हैं. 
 
 
नोमी दे रहा है घाटी में हमले के निर्देश 
नोमी की कॉल इंटरसेप्ट करने पर इस बड़ी साजिश का खुलासा हुआ है. नोमी 2008 के मुंबई आतंकी हमलों का मास्टरमाइंड और आतंकवादी संगठन जमात उल दावा का प्रमुख हाफिज सईद का सबसे करीबी लश्कर कमांडर माना जाता है. जबकि घाटी में लश्कर कमांडर अबू दुजाना इस समय सबसे बड़े आतंकियों के ग्रुप को लीड कर रहा है. 
 
 
पाकिस्तानी सेना की वर्दी में घूम रहे हैं आतंकी
गृह मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार कश्मीर घाटी में आतंकवादी अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर के करीब लॉन्चिंग पैड पर घूमते देखे गए हैं. ये आतंकवादी भारतीय सेना की नजरों से बचने के लिए पाकिस्तानी रेंजर्स की वर्दी में घूम रहे हैं. बताया जा रहा है कि इन आतंकवादियों को पाकिस्तान में बैठा लश्कर कमांडर साजिद जट उर्फ नोमी ने बड़े हमले के निर्देश दिए हैं.
 
 
घाटी के 107 लोग लश्कर में शामिल
सूत्रों के मुताबिक करीब 250 आतंकियो में से आधे से अधिक पाकिस्तानी आतंकी हैं और 107 आतंकी स्थानीय कश्मीर घाटी के हैं. इतनी बड़ी तादाद में आतंकियों की घुसपैठ ने सरकार को भी सकते में डाल दिया है.  
 
 
सर्जिकल स्ट्राइक से आतंकियों में बौखलाहट
बता दें कि 28 और 29 सितंबर की रात को भारतीय सेना की तरफ से पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में की गई सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकियों से लाउंच पैड्स खत्म कर दिए गए. सेना की ओर से की गई इस कार्रवाई में करीब 40 से ज्यादा आतंकी भी मारे गए थे. सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आतंकियों में काफी बौखलाहट है और वे अपने नापाक मंसूबों को अंजाम देने की फिराक में है.