नई दिल्ली. भारतीय सेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) में की गई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी सेना और पाकिस्तान की खूफिया एजेंसी आईएसआई ने आतंकियों की फंडिंग में बढ़ोतरी कर दी है. आईएसआई ने ऐसा इसलिए किया है कि पीओके के दुदनियाल लॉन्च पैड पर हुई सर्जिकल स्ट्राइक से आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा को भारी नुकसान हुआ है. वहीं हाल के घुसपैठों में भारतीय सेना ने 125 आतंकी मार गिराया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
खुफिया एजेंसियों के अनुसार भारत के सर्जिकल ऑपरेशन में लश्कर के करीब 20 आतंकी मारे गए थे. भारतीय सेना ने जब लश्कर के आतंकियों को मारना शुरु किया तो वे पाकिस्तानी चौकी की तरफ भागते देखे गए.
 
 
सुबह होते ही सर्जिकल स्ट्राइक की जगह पर पाकिस्तानी सेना के वाहनों की काफी हलचल भी देखी गई और पाकिस्तानी सेना ने सभी आतंकियों के शवों को वहां से हटाया और किसी अज्ञात जगह पर ले जाकर उन्हें नीलम घाटी में सामूहिक रूप से दफनाया दिया. भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक में पाकिस्तान के दो जवान भी मारे गए.
 
 
खुफिया एजेंसी के अनुसार हाल के दिनों में कश्मीर में आतंकियों का पुलिस स्टेशन को निशाना बना कर भाग जाना और उनसे हथियार छीनने की घटनाओं को इसलिए अंजाम दे रहे हैं, ताकि यह साबित हो जाए कि भारतीय सेना की सर्जिकल ऑपरेशन के बाद भी कश्मीर में आतंकी गतिविधियां चालू रहें और आतंकी बरकरार हैं.