बाड़मेर. गृह मंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को भारत पाकिस्तान सीमा पर बाड़मेर के मुनाबाव सीमा चौकी पर बीएसएफ के जवानों से मिलने पहुंचे. इस दौरान केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर देश पर हमला किया गया तो गोलियां नहीं गिनी जाएंगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
उन्‍होंने राजस्‍थान के दौरे के दूसरे दिन मुनाबाव बॉर्डर आउटपोस्‍ट पर बीएसएफ के जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि हम कभी पहले गोली नहीं चलाते लेकिन यदि हम पर हमला हुआ तो पलटवार में ट्रिगर दबाने के बाद हम कभी गोलियां नहीं गिनते. 
 
राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत कभी किसी पर आक्रमण नहीं करता. भारत की कभी यह नीति नहीं रही है कि हम दूसरे की जमीन पर कब्जा करें. हमारी तरफ अगर कोई बुरी निगाह डालेगा और हम पर आक्रमण करेगा तो फिर हमारे सैनिक ट्रिगर पर उंगली रख देते हैं. फिर हम बंदूक से निकली हुई गोलियों की गिनती नहीं करते हैं.
 
गृहमंत्री ने कहा कि भारत कभी किसी पर हमला नहीं करता और हम दूसरों की जमीन लेने के इच्‍छुक नहीं हैं. वसुधैव कुटुम्‍बकम हमारी विरासत है जिसका मतलब है कि पूरी दुनिया एक परिवार है. बीएसएफ जवानों के विपरीत मौसम और कड़ी परिस्थितियों में काम करने के साहस का सम्‍मान करते हुए उन्‍होंने भरोसा दिलाया कि सरकार सुविधाओं में विस्‍तार करने के लिए सारे प्रयास करेंगी.
 
बता दें कि दो दिन की सरहदी बाड़मेर-जैसलमेर की यात्रा के बाद केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह शनिवार को दिल्ली रवाना हो गए। जैसलमेर में 4 राज्यो के गृह मंत्रियों की बैठक के बाद शनिवार को बाड़मेर के मुनाबाव पहुंचने के बाद उन्होंने अग्रिम सीमा चौकियों का जायजा लिया और सीमा सुरक्षा बल के जवानों से मुलाकात की। इससे पहले शुक्रवार को गृह मंत्री ने मुरार सीमा चौकी का मुआयना किया था. उन्होंने जैसलमेर में एक हाई लेवल मीटिंग का नेतृत्व किया जिसमें 4 राज्यों के मंत्रियों व ऑफिसरों ने हिस्सा लिया था.