जैसलरमेर. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने राजस्थान के जैसलरमेर में शुक्रवार को कहा है कि साल 2018 तक भारत-पाकिस्तान से लगते बॉर्डर की पूरी तरह सील कर दिया जाएगा. बॉर्डर को सील करने की निगरानी मुख्य सचिव और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार करेंगे. गृह मंत्री ने कहा है कि इस लक्ष्य को हासिल करने के लिए जो प्लान तैयार किया गया है वो पूरी तरह समयबद्ध है यानी इसके लिए समय सीमा निर्धारित हुई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत-पाकिस्तान के बीच बढ़ते तनाव के मद्देनजर सीमा पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है और अपनी सेना पर हम लोगों को भरोसा करना चाहिए क्योंकि देश की सुरक्षा पर किसी भी प्रकार का समझौता नहीं होगा. सीमा पर हमारे सुरक्षाबल पूरी तरह से  मुस्तैद हैं. राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि घुसपैठ की घटनाओं को रोकने के लिए और भारत-पाक सीमा को सील करने के लिए तकनीकी और तमाम उपाय किए जाएंगे.
 
राजनाथ सिंह दो दिन के दौरे पर बॉर्डर इलाकों में सुरक्षा का जायजा लेने के लिए आए हैं. पाकिस्तान की सीमा से सटे चार सीमावर्ती राज्यों जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान और गुजरात के साथ मिलकर सुरक्षा की रणनीति बनाई जा रही है. ये राज्य इस ग्रिड को अपने इनपुट देंगे, जिसके हिसाब से जरूरी कदम उठाए जाएंगे.
 
राजनाथ सिंह के साथ बैठक में चारों राज्यों के मुख्यमंत्रियों, सीमा सुरक्षा बल, पुलिस महानिदेशकों और बॉर्डर मैनेजमेंट के अधिकारियों के साथ थी. राजनाथ सिंह 8 अक्टूबर को को बाड़मेर के मुनाबाव सीमा पर जाएंगे.
 
पाकिस्तान से किस राज्य की कितनी सीमा ? 
भारत-पाकिस्तान सीमा की कुल लंबाई-3323 किमी
जम्मू-कश्मीर-पाकिस्तान बॉर्डर (LoC शामिल)- 1225 किमी
राजस्थान से जुड़ी पाकिस्तानी सीमा- 1037 किमी
पंजाब से जुड़ा बॉर्डर- 553 किमी
गुजरात-पाकिस्तान बॉर्डर-508 किमी