नई दिल्ली. भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक के बाद सरकार से कहा है कि पाक अधिकृत कश्मीर में चल रहे आतंकी कैंम्पों को 6 महीनों में खत्म किया जा सकता है. कभी-कभी के बजाए केवल लगातार चलाया गया अभियान ही आतंकियों को बढ़ा नुकसान पहुंचा सकता है. बता दें कि भारत ने 28 सितंबर की रात पीओके में जाकर सर्जिकल सट्राइक की थी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
टाइम्स आॅफ इंडिया के एक खबर के मुताबिक उच्च सैन्य ​अधिकारियों ने बताया, ‘पिछले हफ्ते भारत के सर्जिकल स्ट्राइक को सार्वजनिक करने के बाद सुरक्षा बलों ने सरकार से कहा था कि कभी-कभी होने वाले इन हमलों से आतंकियों को कोई खास नुकसान नहीं होगा. इसके लिए एक मीडियम टर्म प्लान की जरूरत है.’
 
साथ ही सुरक्षा बलों के वरिष्ठ रणनीतिकारों ने सरकार से यह भी कहा था कि देश को कश्मीर में पाकिस्तान की प्रतिक्रिया के लिए भी तैयार रहना होगा. उन्होंने कहा कि आतंकी संगठनों के खात्मे के लिए लगातार अभियान चलाना होगा. आतंकी नेटवर्क कमजोर तो हुआ है लेकिन पूरी सफलता पाने के लिए हमें एक मीडियम टर्म प्लान, एक छह महीने के अभियान पर विचार करना होगा. 
 
भारत की पकड़ मजबूत होने से अच्छा मौका
सैन्य अधिकारियों का यह भी मानना है कि सर्जिकल स्ट्राइक का बदला लेने के लिए पाकिस्तान से और अधिक आतंकी भेजे जा सकते हैं. यहां तक की आतंकियों के और लॉन्चिंग पैड भी बनाए जा सकते हैं. 
 
उनका यह भी मानना है कि घाटी में आतंकियों का समर्थन करने वाले समूहों के हतोत्साहित होने से एक बढ़ा मौका मिला है. अभी हर किसी में जोश है और भारत की एलओसी पर पकड़ भी मजबूत है. सेना और खुफिया ऐजेसियों का आकलन है कि पीओके में 40 से ज्यादा आतंकी कैम्प हैं. ये कैम्प अंदरूनी इलाकों में बने हैं.