नई दिल्ली. भारत में डॉक्टर बनने की चाह रखने वाले हर बच्चे का सपना होता है कि वह ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एम्स) से डॉक्टर बने. बच्चे हर साल इसके लिए कड़ी मेहनत भी करते हैं, लेकिन महज 72 बच्चों का सपना ही पूरा हो पाता था, क्योंकि यहां 72 सीटों के लिए ही परीक्षा ली जाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा, क्योंकि 30 सीटें बढ़ा दी गई हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
जी हां, एम्स से डॉक्टर बनने की इच्छा रखने वाले स्टूडेंट्स के लिए अच्छी खबर है कि यहां एमबीबीएस की 30 सीटें बढ़ा दी गई हैं. अब अगले साल से 107 सीटों पर परीक्षा होगी. पहले 72 सीटों पर परीक्षा ली जाती थी और 5 सीटें सार्क देशों के स्टूडेंट्स के लिए आरक्षित होती थीं, लेकिन साल 2017 से 100 सीटों के लिए परीक्षा ली जाएगी. सार्क देशों के स्टूडेंट्स की सीटों की संख्या 7 हो गई है.