नई दिल्ली. देश में स्पेक्ट्रम की सबसे बड़ी नीलामी शनिवार को शुरू हो गयी. सरकार के अनुसार नीलामी के पहले दिन कुल 53,531 करोड़ की बोली लगी. सात बैंडों में नीलाम की जाने वाली स्पेक्ट्रम की बेस प्राइस 5.63 लाख करोड़ रखी गई है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
नीलामी के पहले दिन बोली लगाने वाली कंपनियों में भारती एयरटेल, वोडाफोन, आइडिया सेल्यूलर और नई खिलाड़ी रिलायंस जियो शामिल हैं, तीन अन्य कंपनियां, एयरसेल, रिलायंस कम्यूनिकेशंस और टाटा टेलीसर्विसेज भी बोली लगाने वालों में शामिल थीं. नीलामी सोमवार को भी जारी रहेगी.
 
दूरसंचार मंत्रालय के मुताबिक पांच राउंड की नीलामी के दौरान ऑपरेटरों ने सबसे ज्यादा दिलचस्पी 1800 मेगाहर्ट्ज बैंड में दिखाई. इस फ्रीक्वेंसी का इस्तेमाल 2जी और 4जी सर्विसेज के लिए किया जा सकता है, हालांकि पहले दिन 700 और 900 मेगाहर्ट्ज के  स्पेक्ट्रम के लिए कोई खरीदार आगे नहीं आया.
 
दूरसंचार सचिव जे एस दीपक ने नीलामी की जानकारी देते हुए कहा कि अब टेलीकॉम सर्विस की गुणवत्ता प्रभावित होने की समस्या इतिहास की बात हो जाएगी. उन्होंने ऑपरेटरों से ज्यादा से ज्यादा स्पेक्ट्रम खरीद कर रख लेने की सलाह दी क्योंकि अगले कुछ सालों तक इसकी नीलामी होने की संभावना नहीं है.