नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के मैनेजिंग एडिटर और वरिष्ठ पत्रकार राणा यशवंत की कविताओं का पहला संग्रह ‘अंधेरी गली का चांद’ का शुक्रवार को विमोचन हुआ. ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित कवि केदारनाथ सिंह ने दिल्ली के कंस्टीट्यूशन क्लब में इस कविता संग्रह का विमोचन किया. केदारनाथ सिंह ने जब ‘अंधेरी गली का चांद’ का विमोचन किया तो पूरा सभागार तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
केदारनाथ सिंह के अलावा मंच पर अरुण कमल, उदय प्रकाश, मंगलेश डबराल और दिनेश कुशवाह थे. इस मौके पर केदारनाथ सिंह ने कहा कि राणा यशवंत की कविता कई बार चकित करती है और उनमें एक विलक्षण कवि होने की ताकत है. केदारनाथ सिंह ने राणा यशवंत की कविताओं का पाठ करके यह बताया कि इन कविताओं में कितने बड़े सवालों को कितनी सहजता से और एक जादुई भाषा में पिरोकर रखा गया है. 
 
अरुण कमल, जो हिंदी के मौजूदा दौर के शुष्क कवियों में गिने जाते हैं. उनको लगता है कि राणा यशवंत नए सवालों के साथ कविता को नई भाषा और नया शिल्प दे रहे हैं. अरुण कमल ने कहा कि यशवंत की कविता कई स्तर पर चलती हैं और जब कभी वो गांव की तरफ मुड़ती है तो देशज शब्दों के साथ वो आबाद हो जाती है. 
 
कई नामी कवि मौजूद थे
अरुण कमल, मंगलेश डबराल और उदय प्रकाश तीनों साहित्य अकादमी और ऐसे कई प्रतिष्ठित सम्मानों से सम्मानित कवि हैं और कविता के बारे में इनकी टिप्पणी राणा यशवंत को एक समर्थ और धारदार कवि के रूप में स्थापित करती है. 
 
दिनेश कुशवाह जो मौजूदा दौर के मजबूत हस्ताक्षर हैं उनके मुताबिक राणा यशवंत की कविता में कई रंग, कई प्रसंग और कई प्रश्न साथ-साथ दिखते हैं और उनकी कविताओं में एक अलग तरह की गरिमा है. 
 
इस मौके पर राणा यशवंत ने कहा कि केदारनाथ सिंह जैसे महान कवि के जरिए उनकी कविताओं के बारे में इतना कुछ कहा जाना उनके लिए बड़ा सम्मान है और आज उनकी कविता की अब तक की पारी सार्थक है.
 
पत्रकारिता जगत के दिग्गज भी आए थे
सभागार में इंडिया न्यूज़ के प्रमोटर और एमडी कार्तिकेय शर्मा, शिवराज सिंह, राजेश शर्मा और मीडिया बिरादरी से कमर वहीद नकवी, राहुल देव, शैलेष कुमार, आलोक वर्मा, सतीश के सिंह, एनके सिंह और ऐसे कई जाने-माने चेहरे मौजूद थे. कुल मिलाकर यह पूरा आयोजन इंडिया न्यूज़ परिवार और राणा यशवंत के लिए यादगार रहा और इस आयोजन ने राणा यशवंत को साहित्यकार और कवि राणा यशवंत के तौर पर भी बहुत मजबूती के साथ स्थापित किया.