नई दिल्ली. पाकिस्तान में सिनेमाघर मालिकों ने भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव खत्म होने तक भारतीय फिल्मों को न दिखाने का फैसला किया है. भारत की पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद दोनों देशों के बीच तनाव काफी बढ़ गया है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यह फैसला वीरवार को फिल्म निर्माताओं के सबसे बड़े संगठन ‘इंडियन मोशन पिक्चर्स प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन (आईएमपीपीए)’ के उस निर्णय के बाद लिया गया है, जिसमें पाकिस्तान कलाकारों के भारतीय फिल्मों में काम करने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.
 
द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की खबर के मुताबिक पाकिस्तान के सिनेमाघरों में शुक्रवार को कोई भी भारतीय फिल्म नहीं दिखाई जाएगी. सिनेमाघर मालिकों का कहना है कि उन्होंने बिना किसी आधिकारिक आदेश का इंतजार किए बिना पहले ही ​भारतीय फिल्में दिखाना बंद कर दिया है. 
 
भारतीय फिल्मों से ज्यादा कमाई 
ये प्रतिबंध दो हफ्ते के लिए जारी रहेगा. हो सकता है कि पाकिस्तान इसकी आधिकारिक घोषणा भी कर दे. बता दें कि पाकिस्तान में भारतीय फिल्में काफी पसंद की जाती हैं. 
 
यहां सिनेमाघर को पाकिस्तानी फिल्मों के बजाए भारतीय फिल्मों से ज्यादा मुनाफा भी होता है. ऐसे में विशेषज्ञों का मानना है कि भारतीय फिल्मों को न दिखाने से सिनेमाघरों को नुकसान हो सकता है.