नई दिल्ली. आतंकी फैज़ल हुसैन अवान और यासिन खुर्शीद से पूछताछ में यह खुलासा हुआ है कि उरी आतंकी हमले में पाकिस्तान की सेना ने आतंकवादियों की मदद की थी. सूत्रों के हवाले से यह खबर आई है कि इस हमले से पाक सेना भी कहीं न कहीं जुड़ी हुई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स है कि आतंकियों ने खुलासा किया है कि पाक सेना के दो अफसरों की देखरेख में आतंकियों को ट्रेनिंग दी गई थी. पीओके में पीर चनासरे और गैराबाद में आतंकियों को ट्रेनिंग दी गई थी. इसके अलावा आतंकियों को एलओसी तक पाक आर्मी की गाड़ी से छोड़ा गया था.
 
बता दें कि गांव वालों ने यासिन खुर्शीद और फैज़ल हुसैन अवान को पकड़ा था. दोनों आतंकियों को एनआईए ने दिल्ली ले आया है, यहां उनका लाई-डिटेक्टर टेस्ट किया जाएगा.
 
18 सितंबर को सुबह करीब 5.30 बजे 4 आतंकी ने LOC में तार काटकर जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर स्थित आर्मी हेडक्वॉर्टर पर हमला किया था. जवाब में सेना ने मोर्चा संभाला. दोनों ओर से करीब चार घंटे गोलीबारी हुई. हमले में 20 जवान शहीद हो गए और 4 आतंकियों को मार गिराया गया. उरी के बाद हंदवाड़ा के लंगेट थाने पर भी ग्रेनेड से हमला हुआ था.
 .