नई दिल्ली. कारपोरेट मंत्रालय में डीजी रहे बीके बंसल और उनके बेटे की आत्महत्या के मामले में नया मोड़ सामने आया है. बंसल ने अपने सुसाइड नोट में सीबीआई के अधिकारियों को पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

नोट में कहा गया है कि सीबीआई के अधिकारियों ने उनके पूरे परिवार को आत्महत्या करने के लिए मजबूर किया है. उनका आरोप था कि एक महिला अधिकारी  ने उनकी पत्नी से कहा कि वह पति और बेटे के टुकड़े कर कुत्तों को खिला देंगे. उनकी पत्नी और बेटी को इन लोगो ने खूब गालियां दीं उनके साथ बुरा व्यवहार किया गया. दोनों ने हताश होकर आत्महत्या कर ली.

बीके बंसल ने सुसाइड नोट में लिखा कि सीबीआई के डीआईजी संजीव गौतम ने एक महिला अधिकारी से कहा था कि इसकी पत्नी और बेटी को इतना टॉर्चर करना कि मरने लायक हालत में पहुंच जाएं. उस समय मैंने उनसे बहुत मिन्नतें की थीं, लेकिन उन्होंने कहा कि तेरी पत्नी और बेटी को जिंदा लाश न  बना दिया तो सीबीआई में डीआईजी संजीव गौतम नहीं. 

बंसल ने आखिरी में लिखा ‘सीबीआई ने मेरी पत्नी और बेटी को मार डाला इससे मैं बहुत दुखी हूं और आत्महत्या कर रहा हूं.’

बेटे ने भी लगाया प्रताड़ना का आरोप
बंसल के बेटे योगेेश बंसल ने भी अपने सुसाइड नोट में डीआई जी के अलावा एसपी अमृता कौर, डिप्टी एसपी रेखा सांगवान, एक आई और हवलदार पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है .

योगेश ने लिखा कि उनकी मां जो कि एक धार्मिक महिला और बहन एक सीधी-सादी लड़की थी, उनको साथ सीबीआई के इन अधिकारियों ने प्रताड़ित किया. मैं बहुत दुखी हूं और खुदकुशी कर रहा हूं.

‘दोषी पाए जाने पर मिलेगी सजा’
वहीं बंसल के इस सुसाइड नोट के सामने आने के बाद से सीबीआई में हड़कंप मच गया है. आनन-फानन में जांच एजेंसी की ओर से बयान जारी किया गया है कि इस मामले की जांच कराई जाएगी. जो भी दोषी पाया जाएगा उसको सजा मिलेगी. इसके साथ ही पूरे केस की जानकारी कोर्ट को भी दी जाएगी.

आपको बता दें कि रिश्वत लेने के एक मामले में डीजी बीके बंसल के खिलाफ सीबीआई की जांच कर रही थी. इसी बीच 19 जुलाई को उनकी पत्नी सत्यबाला और बेटी नेहा ने खुदकुशी कर ली थी.