नई दिल्ली. केरल के कोझिकोड़ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पाकिस्तान को चेतावनी देने के बाद पाकिस्तानी राजदूत अब्दुल बासित ने कहा है कि जंग किसी मामले का हल नहीं है. बासित ने कहा कि दोनों देशों के बीच संवाद जारी रहना चाहिए, इससे दोनों देशों के बीच कई मसलों को हल किया जा सकता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बासित ने कहा कि कश्मीर के लोगों को अपने भविष्य का फैसला करने के लिए मौका जरुर मिलना चाहिए. अगर उन्हें लगता है कि वे भारत के साथ ज्यादा खुश हैं तो वे वहीं रहें, पाकिस्तान को इस बात पर कोई आपत्ति नहीं होगी.
 
बासित ने ‘द टेलिग्राफ’ को दिए इंटरव्यू में कहा कि पठानकोट में हुए हमले के बाद भी हम सही दिशा में आगे बढ़ रहे थे. लेकिन  बुरहान वानी के एनकाउंटर के बाद जो हुआ वो और आप देख रहे हैं, उसके बाद से कश्मीर में क्या हुआ? हमारी बातचीत ने रफ्तार खो दी है. 
 
बासित ने कश्मीर मुद्दे पर कहा है कि हमारी भारत के किसी क्षेत्र पर दावा करने की न तो इच्छा है और न ही हमारा नजरिया. हम बस यही कहना चाहते हैं कि कश्मीर के लोगों को अपना भविष्य चुनने का निष्पक्ष मौका मिलना चाहिए. अगर कश्मीरी भारत के साथ खुश हैं और वहीं रहना चाहते हैं तो वहीं रहें. पाकिस्तान को इस बात पर कोई समस्या नहीं है लेकिन कश्मीर को अपना भविष्य तय करने का अधिकार हो. कश्मीर केवल इलाका भर नहीं है ये 1 करोड़ 20 लाख लोगों की जिंदगी का सवाल है.