नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के रायबरेली लोकसभा सीट से निर्वाचन को चुनौती दी गई है. रायबरेली के एक मतदाता रमेश सिंह ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की है. रमेश सिंह के अधिवक्ता विष्णु जैन ने इंडिया न्यूज़ से बातचीत में कहा कि याचिका दो आरोपों के आधार पर दायर की गयी है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
 सोनिया गांधी मामले में मुख्य बातें जिसके आधार पर याचिकाकर्ता ने याचिका दायर की गई है.
 
* भारत के नागरिक और भारतीय नागरिक. भारत के नागरिक ही चुनाव लड़ सकते है. विदेशी जो भारत की नागरिकता लेते हैं वो चुनाव नहीं लड़ सकते.
 
* सोनिया गांधी ने आज तक इटली की नागरिकता नहीं छोड़ी है. भारत में चुनाव नहीं लड़ सकतीं.
 
* सेक्शन 5 1 सी की संवैधानिक वैलिडिटी को ये कहते हुए चुनोती दी गई है कि ये आतंरिक सुरक्षा के लिए बहुत बड़ा खतरा है.
 
जैन के मुताबिक पहला आरोप यह है कि सोनिया गांधी ने अभी तक इटली की नागरिकता नहीं छोड़ी और दूसरा यह कि लोकसभा चुनाव के दौरान दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना अहमद बुखारी ने कांग्रेस के पक्ष में वोट डालने की अपील की थी. जैन का कहना है कि ऐसा किया जाना कानून की भावना के खिलाफ है. ऐसे में सोनिया का रायबरेली क्षेत्र से निर्वाचन रद्द किया जाना चाहिए.
 
हाईकोर्ट पहले ही याचिका खारिज कर चुका है
इससे पहले हाई कोर्ट ने अपने फैसले में याचिकाकर्ता द्वारा नागारिकता के प्रश्न पर लगाये गए आरोपों के समर्थन में कोई पुख्ता कारण नहीं पाया था. हाई कोर्ट ने कहा था याचिका में कोई ऐसा कारण नहीं दिख रहा जिसके आधार पर उसे स्वीकार किया जा सके. जिसके बाद कोर्ट ने याचिका को ख़ारिज कर दिया था.