गोवा. केंद्रीय जहाज़रानी मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि सरकार माल ढुलाई के लिए सड़क और रेल यातायात पर निर्भरता कम करना चाहती है. इसके लिए देश भर में नदियों पर 100 जलमार्ग (वॉटर-वे) बनाए जा रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
केंद्रीय राजमार्ग और जहाज़रानी मंत्री नितिन गडकरी ने इंडिया न्यूज़ और इंडिपेंडेंट पावर प्रोड्यूसर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IPPAI) के कार्यक्रम में ये जानकारी दी. 22 सितंबर से गोवा में शुरू हुआ ये कार्यक्रम रेगुलेटर्स एंड पॉलिसी रिट्रीट 25 सितंबर तक चलेगा. 
 
 
नितिन गडकरी ने बताया कि सड़क से माल ढोना काफी महंगा पड़ता है. माल ढुलाई के लिए रेल थोड़ी सस्ती है, लेकिन रेलवे नेटवर्क पर पहले से काफी दबाव है. ऐसे में जलमार्ग ही सबसे बेहतर विकल्प है, जो परिवहन के दूसरे माध्यमों की तुलना में बहुत सस्ती है. 
 
 
गडकरी ने बताया कि जहाज़रानी मंत्रालय ने हाल ही में वाराणसी से हल्दिया तक पानी वाले जहाज़ चलाना शुरू किया है. इस जलमार्ग के जरिए मारुति कंपनी ने अपनी कारों को पश्चिम बंगाल और असम भेजा, तो जलमार्ग का फायदा समझ में आया. गाड़ियों की ढुलाई में लागत कम होने से पश्चिम बंगाल और असम में मारुति की कीमतों में 5 हज़ार रुपये तक की कमी आई है.
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App