नई दिल्ली. कांग्रेस पार्टी का 24 अकबर रोड का पता बदल सकता है. मोदी सरकार मुख्य विपक्षी पार्टी के 24 अकबर रोड स्थित बंग्ले के साथ- साथ लूटियन जोन में बने तीन और बंग्लों को खाली कराने के प्रस्ताव पर विचार कर रही है. यही नहीं उनसे जून 2013 से अबतक का किराया भी वसूलने का प्रस्ताव है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
कांग्रेस का 24 अकबर रोड स्थित पार्टी मुख्यालय 1976 में बना था, इसकी लीज समाप्त हो गई है. दो साल पहले ही मोदी सरकार ने कांग्रेस पार्टी को बंग्ला खाली करने का नोटिस दिया था. लेकिन कांग्रेस ने एक्सटेंशन करा लिया था. डायरेक्टरेट ऑफ स्टेट्स अब कांग्रेस पार्टी को नया नोटिस भेजने की तैयारी में है जिसमें उनसे बकाया राशि की मांग की जाएगी. 
 
नया मुख्यालय बनाने के लिए मिल चुकी है जमीन
कांग्रेस पार्टी को 2010 में नया पार्टी ऑफिस बनाने के लिए 9-अ राउस अवेन्यू में जमीन दी गई थी. सरकार के नियमों के मुताबिक ऑफिस बनाने के लिए जगह अलॉट होने के बाद तीन साल में अपना ऑफिस बना लेना होता है. इस कारण से कांग्रेस को 2013 में 24 अकबर रोड का बंग्ला खाली कर देना चाहिए था पर अभी तक कांग्रेस ने इसे खाली नहीं किया. इस बाबत डायरेक्टरेट ने पार्टी को जनवरी 2015 में नोटिस भी जारी किया था. 
 
वहीं कांग्रेस के कोषाध्यक्ष मोतीलाल वोरा का कहना है कि हमारा नया ऑफिस 2018 तक बनकर तैयार हो जाएगा. इस अवधि तक के लिए हमने एक्सटेंशन भी ले रखा है साथ ही हम कार्यालय का किराया भी अदा कर रहे हैं. हालांकि शहरी विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया कि मोतीलाल वोरा के दावे गलत है. कांग्रेस ने एक्सटेंशन मांगी थी पर उसे रिजेक्ट कर दिया गया था.