नई दिल्ली. बजट पेश करने की सालों पुरानी पंरपरा अब बदलने जा रही है. केंद्र सरकार ने अगले साल से आम बजट में ही रेल बजट पेश करने की मंजूरी दे दी है. अभी तक रेल बजट आम बजट से पहले पेश किया जाता रहा है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इसके साथ ही आम बजट पेश करने की तारीख भी बदल दी गई है. अब तक आम बजट 28 फरवरी को पेश किया जाता था लेकिन अब से फरवरी के पहले सप्ताह में पेश होगा. हालांकि, अभी तारीख की घोषणा नहीं की गई है. 
 
आम बजट पेश किए जाने का समय बदलने की बातें पिछले महीने से ही सामने आने लगी थीं. तब बजट जनवरी में पेश होने की खबरें भी आई थीं. 
 
वित्त मंत्री अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि नीति आयोग की समिति ने दोनों बजटों के विलय की सलाह दी थी. वर्ष 1924 से रेल बजट पेश करने की परंपरा रही है. लेकिन रेल बजट की स्वायत्ता बरकरार रहेगी. हमें बजट की सारी प्रक्रिया 31 मार्च के पहले पूरी करनी है.  
 
बजट के बाद के कार्यों में सहूलियत
आम बजट का समय बदलने की वजहों में यह बताया गया था कि जनवरी में बजट पेश करने से टैक्स देने वालों को योजना बनाने में सुविधा मिल जाएगी. साथ ही सरकार को भी वित्तीय वर्ष खत्म होने से पहले ही सारे इंतजाम करने की सहूलियत मिल जाएगी. 
 
फिलहाल संसद बजट में टैक्स बदलावों और वित्त विधेयकों को मई महीने के दूसरे सप्ताह में बहस करने के बाद पास करती है. इसके साथ ही सरकार ने दाल, खाद्य तेलों की स्टॉक सीमा को जारी रखा है. स्टॉक सीमा 30 सितंबर तक जारी रहेगी.