पटना. जम्मू कश्मीर के उरी में हुए आतंकी हमले से सबसे ज्यादा नुकसान बिहार की धरती को हुआ है. इस हमले में बिहार के 15 जवान शहीद हुए हैं. जी हां शहीद हुए 17 जवानों में से 15 जवान बिहार रेजिमेंट के और 2 डोगरा रेजिमेंट के बताए जा रहे हैं.
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस आतंकी हमले के बाद बिहार आर्मी कैंपों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. इसके अलावा बिहार में सुरक्षा बलों को अलर्ट कर दिया गया है.
कहा जा रहा है कि इस हमले के पीछे आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का हाथ है. सैन्य अभियान के महानिदेशक (DGMO) रणबीर सिंह ने दावा किया है कि मारे गए आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के थे. उन्होंने कहा कि आतंकियों के पास से पाकिस्तान का भी सामान बरामद किया गया है.
 
वहीं शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा है कि भारत केवल बात करता है और पाकिस्तान एक्शन लेता है. उन्होंने कहा कि इस बात का भरोसा नहीं है कि यह आतंकी हमला है, ऐसा लगता है कि यह हमला पाकिस्तान की तरफ से किया गया सुनियोजित हमला है.
 
जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने उरी आतंकी हमले पर कहा है कि भारत पाकिस्तान की दुश्मनी का खामियाजा जम्मू कश्मीर को भुगतना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि यहां के लोग पिछले 6 दशकों से इसकी भारी कीमत चुका रहे हैं.
 
बता दें कि आज सुबह करीब 5.30 बजे 4 आतंकी ने LOC में तार काटकर जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर स्थित आर्मी हेडक्वॉर्टर पर हमला किया था. जवाब में सेना ने मोर्चा संभाला. दोनों ओर से करीब चार घंटे गोलीबारी हुई. हमले में 17 जवान शहीद हो गए हैं और 4 आतंकियों को मार गिराया गया है. 18 जवानों के घायल होने की खबर है.