नवसारी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि दिव्यांगों को किसी की सहानुभूति की जरूरत नहीं है. उन्होंने यह बात अपने 66वें जन्मदिन के अवसर पर गुजरात के नवसारी में सामाजिक अधिकारिता शिविर में दिव्यांग बच्चों को संबोधित करते हुए कही. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मोदी ने कहा, ‘किसी भी दिव्यांग को किसी की सहानुभूति की जरूरत नहीं है. हमारे दिव्यांग भाई और बहन गर्व से जीना चाहते हैं और अपनी जिंदगी में कुछ अच्छा करना चाहते हैं.’ प्रधानमंत्री ने यहां दिव्यांगों को संबोधित करने के साथ-साथ उन्हें सहायक उपकरण भी दिए.
 
मोदी ने इस अवसर पर नवसारी के लोगों को बधाई देते हुए कहा कि नवसारी ने 3 वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाए हैं और विश्व के नक्शे पर अपनी पहचाने बनाई है. उन्होंने कहा कि ‘चलता है’ जैसी बातें बोलने का अब समय चला गया है.
 
मोदी ने कहा, ‘अब ‘चलता है’ बोलने का समय जा चुका है. दुनिया को भारत से बहुत सी उम्मीदें हैं और हम इस अवसर को जाने नहीं दे सकते. सुलभ भारत पर बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस पहल का मकसद देश के उन हिस्सों का विकास करना है जिन्हें कई सालों से अनदेखा किया जा रहा था.  
 
67 फीट की माला पहनाई गई
पीएम मोदी के जन्मदिन को और खास बनाने के लिए नवसारी में मोदी को 67 किलो की और 67 फीट लंबी फूलों की माला पहनाई गई. 
 
मां के आशीर्वाद के साथ शुरू किया दिन
पीएम मोदी ने आज के दिन की शुरुआत मां हीरा बा के आशीर्वाद के साथ शुरू किया. रात पहुंचकर उन्होंने गांधीनगर में अपनी मां हीरा बा का आशीर्वाद लिया. इसके साथ ही मोदी दो दिन के गुजरात दौरे पर हैं. दौरे में वह कई प्रोजेक्ट का उद्घाटन करने वाले हैं. मां का आशीर्वाद लेने के बाद मोदी ने आदिवासी बहुल जिला दाहोद के लीमखेड़ा में सिंचाई परियोजना की शुरुआत की.
 
आज का दिन ‘सेवा दिवस’ के रुप में मना रही है BJP
बीजेपी के सांसद और विधायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को ‘सेवा दिवस’ के रूप में मना रहे हैं. इसी क्रम में बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह ने पीएम के जन्मदिन के मौके पर तेलंगाना में स्वच्छता अभियान में हिस्सा लिया.