सीवान. बिहार में आरजेडी के बाहुबली नेता शहाबुद्दीन के साथ सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के आरोपी मोहम्मद की फोटो सामने आने के बाद से ही यह खबर सुर्खियों में है. शहाबुद्दीन ने पहली बार इस पर कुछ कहा है. उसने कहा है कि मोहम्मद की फोटो कई लोगों के साथ है, किसी को फोटो में उसके साथ क्यों नहीं होना चाहिए.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
शहाबुद्दीन ने एक तरह से मोहम्मद कैफ का बचाव करते हुए कहा कि कैफ की अपने मोहल्ले में लड़ाई हुई थी और अब उसे शूटर कहा जा रहा है.
 
राजदेव मामले में मेरा नाम क्यों ?
 
शहाबुद्दीन ने पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के मामले में कहा कि इसमें उनका नाम कहां से आया. उसने कहा, ‘राजदेव के मामले में मेरा नाम कहां से आया. क्या पुलिस एफआईआर या चार्जशीट में मेरा नाम है.’
 
 
कोर्ट के फैसले का पालन करूंगा
 
बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में शहाबुद्दीन की जमानत के खिलाफ अर्जी दायर की है. इस मामले पर इस बाहुबली नेता ने कहा है कि कोर्ट का जो भी फैसला आएगा उसका पालन किया जाएगा. बता दें कि नीतीश सरकार ने पटना हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है.
 
BJP को राजदेव से कोई मतलब नहीं था
 
बीजेपी पर निशाना साधते हुए शहाबुद्दीन ने कहा है कि बीजेपी को न तो राजदेव रंजन से कोई मतलब है और न ही चंद्रकेश्वर से. वह पार्टी तो केवल मेरी जमानत के खिलाफ है.
 
बता दें कि शहाबुद्दीन की जमानत के खिलाफ बिहार सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दे दी है और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने भी इस मामले को सर्वोच्च अदालत में चुनौती दी है. कोर्ट ने भूषण की याचिका स्वीकार कर ली है. इस मामले पर सुनवाई 19 सितंबर को है.