नई दिल्ली. आरजेडी नेता शहाबुद्दीन की जमानत रद्द करने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दाखिल प्रशांत भूषण की याचिका को स्वीकार कर लिया गया है. कोर्ट इस पर 19 सितम्बर को सुनवाई करेगी. प्रशांत भूषण ने चंदा बाबु उर्फ चंद्रकेश्वर प्रसाद की तरफ से याचिका दाखिल की है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
याचिका में कहा गया है कि शहाबुद्दीन एक हिस्ट्रीशीटर है और उसके खिलाफ कई मामले लंबित है. ऐसे में उसकी जमानत रद्द की जानी चाहिए. दरअसल शहाबुद्दीन पर चंद्रकेश्वर प्रसाद के तीन बेटों की हत्या का आरोप है. पूर्व सांसद शहाबुद्दीन 11 साल बाद शनिवार को जमानत पर रिहा हुए थे. शहाबुद्दीन के बाहर आते ही बिहार की सियासत में भूचाल आ गया है. बीजेपी ने शहाबुद्दीन की फौरन गिफ्तारी की मांग की है. 
 
सीवान के एसपी ने शहाबुद्दीन से जुड़े छह केसों के ट्रायल को फिर से शुरु करने का आदेश दिया है. इसके पहले पटना हाईकोर्ट की एक बेंच ने शहाबुद्दीन के मामलों के ट्रायल पर रोक लगा दी थी. दूसरी बेंच ने ट्रायल को 9 महीने में पूरी करने का आदेश दिया था जिसके 6 महीने बीत चुके हैं. वहीं एडीजे कोर्ट में केस का कमिटमेंट नहीं हो पाया इसी के आधार पर शहाबुद्दीन को बेल मिल गई थी.