नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस ने दो लोगों से मारपीट के बाद बृहस्पतिवार को चार लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों के गौरक्षक होने का संदेह है. बाहरी दिल्ली के कंझावला में एक मदरसा टीचर और ड्राइवर के साथ चार लोगों से तब मारपीट की गई जब वे बकरीद में कुर्बानी के बाद अवशेषों को फेंकने जा रहे थे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
आरोपियों ने उन्हें रास्ते मेो रोका और फिर बुरी तहर घायल कर दिया. टीचर और ड्राइवर को अस्तपाल में भर्ती कराया गया है. अभी उनकी हालत ठीक है. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया है.
 
पुलिस का कहना है कि अभी वह ये जांच कर रही है कि आरोपी नवीन, राजू, देवेश और अभिषेक किसी गौर रक्षक समूह से तो जुड़े हुए नहीं हैं. आरोपी रानी खेरा और रसूलपुर के रहने वाले हैं, जो घटना की जगह के आसपास का क्षेत्र है.  
 
पहले ​पीछा और फिर रोककर मारपीट
यह घटना बुधवार रात की है. स्थानीय लोगों के अनुसार अमन विहार के जामिया रहमानिया ताज़ुरीदुल कुरान में 25 वर्षीय टीचर मोहम्मद खालिद, 16 साल का एक विद्यार्थी अब्दुस सलाम और 35 साल का ड्राइवर अली हसन जानवर के अवशेष फेंकने जा रहे थे. 
 
पुलिस को सूचना देने वाले मदरसा के महासचिव कारी मोहम्मद ने कहा कि दो गाड़ियों में सवार आरोपियों ने पहले तीनों का पीछा किया और फिर उन्हें मुंडका रोड पर रोका. गाड़ी में बैठे लोगों के पास रॉड और डंडे थे. उन्होंने तीनों को बाहर निकाला और पीटने लगे. 
 
कारी मोहम्मद ने बताया कि सलाम वहां से किसी तरह बचकर निकल गया क्योंकि उसने टोपी नहीं लगाई थी और उसकी दाढ़ी नहीं थी. उसने ही कारी मोहम्मद को घटना की सूचना दी. उन्होंने आसपास ही रहने वाले कुछ लोगों पर संदेह जताया है.