इटावा. उत्तर प्रदेश के सबसे बड़े राजनीतिक परिवार के मुखिया मुलायम सिंह यादव के कुनबे में घमासान मचा हुआ है. उनके बेटे और भाई में तलवारें खिंच गई हैं. मुलायम की कोशिश है कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले मामले को सुलझा लिया जाए. इसके लिए कोशिशें भी जारी हैं.समाजवादी राजनीति के झंडे तले अपने करियर की शुरुआत करने वाले मुलायम ने जब भी फैसला लिया, परिवार को हमेशा ज्यादा तरजीह दी. राजनीति में भाइयों को स्थापित करते-करते 2012 में वह पुत्रमोह में बंध गए और विधानसभा चुनाव से पहले बेटे अखिलेश को सीएम का पद का उम्मीदवार बना दिया.  खुद को सीएम पद का उम्मीदवार समझने वाले शिवपाल उस समय तो मन मसोस कर रह गए लेकिन अब धीरे-धीरे उनके मन का गुबार बाहर आने लगा और अब वह और अखिलेश आमने-सामने हैं.  यादव परिवार में छिड़ी इस जंग को समझने के लिए आपको मुलायम सिंह यादव के पूरे परिवार को भी जान लेना चाहिए.
 
मुलायम सिंह यादव का पूरा परिवार 
सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की पहली पत्नी का नाम स्वर्गीय मालती देवी है. दूसरी पत्नी का नाम साधना है. पहली पत्नी से अखिलेश और दूसरी पत्नी साधना से प्रतीक का जन्म हुआ.  अखिलेश की पत्नी का नाम डिंपल है जो कि सांसद हैं. जबकि प्रतीक कारोबारी हैं और उनकी पत्नी अपर्णा समाज सेविका हैं. अखिलेश यादव के तीन बेटे हैं जिनके नाम अर्जुन, टीना, अदिति हैं. जबकि प्रतीक के बेटी का नाम प्रथमा है.
 
मुलायम सिंह यादव के बड़े भाई स्वर्गीय रतन सिंह के बेटे स्वर्गीय रणवीर सिंह सैफई के पहले ब्लॉक प्रमुख बने. रणवीर सिंह के बेटे तेज प्रताप यादव इस इस समय मैनपुरी से सांसद हैं. तेज की शादी  लालू प्रसाद की बेटी राज लक्ष्मी से हुई है.
 
मुलायम के दूसरे बड़े भाई अभयराम यादव के बेटे धर्मेन्द्र यादव बंदायू से सांसद हैं. धर्मेन्द्र का छोटा भाई अनुराग सपा यूथ बिग्रेड के राष्ट्रीय सचिव हैं. अनुराग की पत्नी मैनपुरी जिला पंचायत की अध्यक्ष हैं. 
 
राजपाल यादव मुलायम के तीसरे नंबर के भाई हैं. राजपाल यादव के बेटे अभिषेक इटावा जिला पंचायत का अध्यक्ष हैं. जबकि दूसरा बेटा उनकी बेटा आर्यन नोएडा में पढ़ाई कर रहा है.
 
शिवपाल यादव मुलायम के छोटे भाई हैं. जो कि अखिलेश यादव सरकार में सबसे ताकतवर कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं और अब यूपी समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष हैं. इनके बेटे का नाम आदित्य है जो यूपीपीसीएफ के अध्यक्ष हैं.
 
अंजट सिंह मुलायम सिंह यादव के बहनोई हैं. अंजट सिंह बसरेहर के ब्लॉक प्रमुख हैं. 
 
रामगोपाल यादव मुलायम सिंह के चाचा बच्ची लाल यादव के बेटे हैं. प्रोफेसर रामगोपाल यादव की दो बहनें गीता देवी और फूलन देवी हैं और एक भाई साहब सिंह हैं. रामगोपाल का एक बेटा अनुपम केके महाविद्यालय इटावा में लिपिक के पद पर हैं और दूसरा बेटा अक्षय फिरोजाबाद से सांसद हैं. 
 
इसके अलावा बहन गीता देवी का बेटा अरविंद एमएलसी के प्रत्याशी और भाई साहब सिंह का बेटा कटहल ब्लॉक का प्रमुख है