नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के एडिटर-इन-चीफ दीपक चौरसिया को अपने नंबर पर धमकियां मिलने के बाद उन्होंने पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करा दी है. पुलिस ने दिल्ली के पर्यटन और जल संसाधन मंत्री कपिल मिश्रा और अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज ​कर लिया है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दिल्ली सरकार के मंत्री कपिल मिश्रा के मंगलवार को दीपक चौरसिया का नंबर सार्वजनिक कर देने के बाद से ही उन्हें लगातार फोन पर धमकियां मिल रही हैं और गाली-गलौच की जा रही है. उनके बच्चे तक को देख लेने की धमकी दी गई है. इसे देखते हुए दीपक चौरसिया की पत्नी ने सफदरजंग एनक्लेव थाने में शिकायत दर्ज करा दी है.
 
पुलिस ने कपिल मिश्रा और अज्ञात लोगों के खिलाफ धमकी के मामले में शिकायत दर्ज कर ली है. पुलिस ने आईपीसी की धारा 506, 507, 509 354डी और 34 के तहत केस दर्ज किया है.
 
दरअसल, दिल्ली में चिकनगुनिया के कहर पर इंडिया न्यूज़ पर जब मंगलवार को ‘टुनाइट विद दीपक चौरसिया’ में अरविंद केजरीवाल सरकार के मंत्रियों के वो मोबाइल नंबर दिखाए गए जो दिल्ली सरकार की साइट पर पहले से ही सार्वजनिक हैं, तो जवाब में गैरजिम्मेदाराना तरीके से मंत्री कपिल मिश्रा ने दीपक चौरसिया का पर्सनल मोबाइल नंबर ट्वीट कर दिया था.
 
इसके बाद से ही इंडिया न्यूज़ के एडिटर-इन-चीफ दीपक चौरसिया के मोबाइल फोन पर लगातार देश-विदेश से फोन आ रहे हैं. उनके मोबाइल पर भद्दे-भद्दे मैसेज भी भेजे जा रहे हैं. और ये सब इसलिए हो रहा है क्योंकि केजरीवाल सरकार के मंत्री कपिल मिश्रा ने दीपक चौरसिया का पर्सनल मोबाइल नंबर ट्वीटर पर डाल दिया है जिसे उनके समर्थक रीट्वीट कर रहे हैं.
 
 
वहीं, दीपक चौरसिया का फोन नंबर सार्वजनिक करने के लिए कपिल मिश्रा ने दलील दी है कि दीपक चौरसिया ने उनका पर्सनल नंबर अपने चैनल पर दिखाया, तो इसके जवाब में वो दीपक चौरसिया के दोनों फोन नंबर शेयर करेंगे. दीपक चौ​रसिया को धमकियां मिलने के बावजूद कपिल मिश्रा ने ट्वीट करके यहां तक कहा कि क्या एक पत्रकार का नंबर जनता के पास होना गलत? इतना तिलमिला क्यूं रहे हो भाई. 
 
‘टुनाइट विद दीपक चौरसिया’ में दिल्ली में चिकनगुनिया से हो रही मौतों पर बड़ी बहस हुई थी. इसमें आम आदमी पार्टी या दिल्ली सरकार के प्रतिनिधित्व के लिए कोई शामिल नहीं हुआ. लेकिन जब बहस में शामिल कांग्रेस, बीजेपी और स्वराज अभियान के नेता सीधे दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी पर सवाल उठा रहे थे, तो इंडिया न्यूज ने आम आदमी पार्टी के प्रवक्ताओं और दिल्ली सरकार के मंत्रियों से फोन पर उनका पक्ष जानने की कोशिश की. 
 
 
इसके लिए दिल्ली के पर्यटन और जल संसाधन मंत्री कपिल मिश्रा का मोबाइल फोन मिलाया गया. इसके लिए कंपिल मिश्रा का वही नंबर डायल किया गया, जो दिल्ली सरकार की वेबसाइट पर दर्ज है. 
 
बाद में कपिल मिश्रा इंडिया न्यूज़ के एडिटर-इन-चीफ दीपक चौरसिया के निजी फोन नंबर को अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर दिया और अपने फॉलोअर्स से अपील की कि इस नंबर को ज्यादा से ज्यादा री-ट्विट करें. 
 
वहीं, कपिल मिश्रा इस मामले में ये भी झूठ बोल रहे हैं कि इंडिया न्यूज ने उनका निजी नंबर सार्वजनिक कर दिया था. कपिल मिश्रा जिस मोबाइल नंबर 98180 66041 को अपना पर्सनल नंबर बता रहे हैं, वो नंबर दिल्ली सरकार की वेबसाइट पर दर्ज़ है. अब जिस नंबर को दिल्ली सरकार ने ही आम जनता के लिए सार्वजनिक कर रखा है, वो भला कपिल मिश्रा का पर्सनल नंबर कैसे हो सकता है? 
 
 
इंडिया न्यूज़ के एडिटर इन चीफ दीपक चौरसिया का फोन नंबर सार्वजनिक करके कपिल मिश्रा ने यही साबित किया है कि आम आदमी पार्टी में जवाबदेही नाम की कोई चीज नहीं है. जो कोई भी आम आदमी पार्टी के नेताओं से सवाल पूछता है, उसे आम आदमी पार्टी के नेताओं का निशाना बनना पड़ता है. चाहे सवाल कोई पत्रकार पूछे या आम आदमी पार्टी का ही अपना कोई बड़ा नेता या विधायक.