नई टिहरी. सऊदी अरब के एक होटल में सात भारतीय युवक फंस गए हैं. इन लोगों ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मदद की गुहार लगाई है. इनमें से छह युवक उत्तराखंड और एक दिल्ली का निवासी है. फंसे भारतीयों ने होटल मालिक पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है साथ ही होटल मालिक ने इन युवकों का पासपोर्ट भी जब्त कर लिया है और होटल के बाहर भी नहीं जाने दिया जा रहा है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सामाजिक कार्यकर्ता राजेश्वर पैन्यूली ने बताया कि मोदी सरकार के अलावा टिहरी (उत्तराखंड) के DM और SSP से इन्हें छुड़ाने का आग्रह किया है. पैन्यूली ने बताया कि छह युवक टिहरी जिले के गजेंद्र सिंह, विरेंद्र सिंह, विक्रम सिंह, सुभाष चंद, सचिन सिंह और राजेपुरी उत्तम नगर और दिल्ली निवासी सचिन शर्मा है. ये लोग सऊदी अरब में अजीजिया स्ट्रीट बहार अल बरीन स्थित एक होटल में नौकरी करने गए थे.
 
उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले इन युवकों का फोन आया कि होटल मालिक उनके साथ अच्छा व्यवहार नहीं कर रहा है. आरोप है कि युवकों ने भारत वापसी के लिए अपने दस्तावेज मांगे तो होटल मालिक ने नहीं दिए और जान से मारने की धमकी भी दी. इसके बाद इन सात युवकों ने भारत सरकार से वापसी की मांग की है.
 
टिहरी के जिलाधिकारी इंदुधर बौड़ाई ने कहा कि इस तरह की जानकारी संज्ञान में आई है. ये युवक कौन हैं और साथ ही इन्हें किस एजेंट ने विदेश भेजा है उसका भी पता लगाया जा रहा है. इन सबके बाद प्रशासन को इस संबंध में रिपोर्ट भेजी जाएगी. उसके बाद विदेश मंत्रालय को भी पत्र भेजकर इन सात युवकों की वापसी कराई जाएगी.