अहमदाबाद. गुजरात में दलितों ने ऊना घटना का विरोध करने के लिए अब पोस्टकार्ड को विरोध का माध्यम बना लिया है. इसके साथ ही अब दलितों के निशाने पर बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन भी आ गए हैं. दलित अत्याचार लड़त समिति (UDALS) पोस्टकार्ड कैम्पेन शुरू करने वाली है. इस कैम्पेन में बदबू गुजरात की लिखा जाएगा और इस पोस्टकार्ड को अमिताभ बच्चन को भेजकर उन्हें गुजरात आने का न्योता दिया जाएगा.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस कैम्पेन को गुजरात टूरिज्म डिपार्टमेंट के प्रमोशन कैम्पेन ‘खुशबू गुजरात की’ की देखा सीखी शुरू किया गया है. बता दें कि इसमें अमिताभ बच्चन को इसलिए शामिल किया जा रहा है क्योंकि अमिताभ बच्चन को गुजरात टूरिज्म के प्रमोशन के लिए ब्रांड एम्बेसडर बनाया गया था.
 
दलितों द्वारा शुरू किए जा रहे पोस्टकार्ड कैम्पेन में पोस्टकार्ड पर ‘बदबू गुजरात की’ लिखा जाएगा और उसे प्रधानमंत्री मोदी और अमिताभ बच्चन को भेजा जाएगा. पोस्टकार्ड के द्वारा दोनों से गुजरात में मरी हुई गायों से आ रही बदबू का अहसास लेने के लिए गुजरात आने की अपील की जाएगी.
 
UDALS के संयोजक जिग्नेश मेवानी ने कहा है कि अमिताभ बच्चन को भेजे जाने वाले पोस्टकार्ड में लिखा जाएगा. ‘मोदी जी के कहने पर आपने खुशबू गुजरात की देखी, अब हमने मृत पशुओं की खाल निकालने का काम निकालने का काम छोड़ दिया है तो कुछ दिन तो गुजारिये गुजरात में और देखिए बदबू गुजरात की.’
 
बता दें कि ऊना में दलितों की पिटाई के बाद दलितों ने मरे हुए जानवरों की खाल निकालने से मना कर दिया था, इसकी वजह से कई जगहों पर मरे हुए जानवरों से भयंकर बदबू आ रही है, जिसके कारण लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है.