पटना. पूर्व सांसद और आरजेडी नेता शहाबुद्दीन का कहना है कि अगर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को जमानत मिल सकती है तो उनको क्यों नहीं.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

न्यूजचैनल आईबीएन-7 से बातचीत में शहाबुद्दीन ने ये बात कही है. उनके इस बयान के बाद से राजनीतिक बयानबाजी का भी दौर शुरू हो सकता है. इतना ही नहीं, शहाबुद्दीन ने ये भी साफ कहा कि नीतीश कुमार उनके नेता नहीं है, उनके नेता तो लालू प्रसाद यादव हैं. 

उन्होंने कहा ‘ नीतीश कुमार मेरे नेता नहीं है. वह बिहार के मुख्यमंत्री हैं. जेडीयू के नेता हैं. मैं कोई विधायक भी नहीं हूं कि उनको नेता मानूं. मेरे नेता तो सिर्फ आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव हैं. मैंने उनके साथ अपना राजनीतिक करियर शुरू किया है.’

वहीं नीतीश कुमार और लालू यादव की तुलना करते हुए शहाबुद्दीन ने कहा कि नीतीश कुमार परिस्थितियों में नेता बने हैं. लेकिन लालू यादव स्वाभाविक नेता हैं और देश में उनसे बड़ा स्वाभाविक नेता कोई नहीं है.

गौरतलब है कि सीवान में हुए तेजाबकांड में दो सगे भाइयों की हत्या के चश्मदीद गवाह और मृतकों के भाई राजेश रौशन की हत्या के मामले में शहाबुद्दीन पिछले 13 सालों से जेल में बंद थे. पटना हाईकोर्ट ने उन्हें इस मामले में जमानत दी थी जिसके बाद वह शनिवार को जेल से बाहर आए हैं. 

उनकी रिहाई पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और आरजेडी सुप्रीमो की खूब किरकिरि हो रही है. जिस तरह का शहाबुद्दीन का इतिहास रहा है उससे लोगों को डर है कहीं एक बार फिर से उनका आतंक न शुरू हो जाए.