नई दिल्ली.  राजधानी, शताब्दी और दुरंतो में लागू किये गए फ्लेक्सी फेयर सिस्टम पर लोगों की तीखी प्रतिक्रिया के बाद से मोदी सरकार दबाव में है. इस दबाव को इस बात से ही समझा जा सकता है कि सफाई देने के लिए रेलवे के मेंबर ट्रैफिक मोहम्मद जमशेद रविवार को छुट्टी वाले दिन प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि 9 सितंबर से राजधानी, शताब्दी और दुरंतो एक्सप्रेस में हवाई जहाज जैसा डायनैमिक किराया सिस्टम लागू करने की घोषणा की गयी थी. जिसके अनुसार जैसे-जैसे बर्थ बुक होते जाएंगे, वैसे-वैसे ट्रेन का किराया डेढ़ गुना तक बढ़ जाएगा. अभी तक प्रीमियम ट्रेन में ही घटते टिकट के साथ किराया बढ़ता था.  
 
भारतीय रेलवे ने बुधवार को इसे फ्लेक्सी फेयर सिस्टम का नाम देते हुए ऐलान किया कि थर्ड और सेकेंड एसी वाले बर्थ का किराया ट्रेन में उस क्लास की कुल सीटों का 50 परसेंट सीट बुक होने के बाद डेढ़ गुना हो जाएगा लेकिन फर्स्ट एसी का किराया हर हाल में एक जैसा ही बना रहेगा. राजधानी और दुरंतो एक्सप्रेस में थर्ड एसी और सेकेंड एसी का किराया 100 बर्थ में 10 बर्थ बुक हो जाने के बाद 10 परसेंट बढ़ जाएगा.
 
 
मतलब जब ट्रेन की 100 में 90 सीट बची होंगी तो किराया 10 परसेंट बढ़ेगा. जब 80 सीट बचेंगी तो किराया 20 परसेंट ऊपर हो जाएगा. जब 70 सीट बचेंगी तो किराया 30 परसेंट बढ़ जाएगा और जब 60 सीट बचेंगी तो किराया 40 परसेंट बढ़ जाएगा. 100 में 50 सीट बचने के बाद थर्ड और सेकेंड एसी का किराया 50 परसेंट बढ़ जाएगा और इसके बाद आखिरी बर्थ के बुक होने तक किराया 50 परसेंट ही ज्यादा रहेगा. राजधानी और दुरंतो की फर्स्ट एसी का किराया पहले बर्थ से लेकर आखिरी बर्थ के बुक होने तक एक जैसा ही रहेगा.
 
शताब्दी एक्सप्रेस में भी इसी तरह चेयरकार कोच की 100 सीट में 90 सीट बचने पर 10 परसेंट, 80 सीट बचने पर 20 परसेंट, 70 सीट बचने पर 30 परसेंट, 60 सीट बचने पर 40 परसेंट और 50 सीट या उससे कम सीट बचने पर 50 परसेंट ज्यादा किराया लगेगा. शताब्दी के भी एग्जीक्युटिव क्लास में किराया एक जैसा ही बना रहेगा.
 
 
इसके अलावा चार्ट बनने के वक्त भी अगर कोई सीट खाली है तो उसे करेंट बुकिंग के तहत बेचा जाएगा लेकिन उसका किराया उस क्लास के आखिरी टिकट के कटे किराए के बराबर होगा. ट्रेन के रिजर्वेशन चार्ट पर हर क्लास का आखिरी किराया यानी सबसे महंगा किराया भी दर्ज किया जाएगा ताकि लोग देख सकें कि किस क्लास की टिकट कितनी ऊंची बिकी.
 
आखिरी और काम की बात ये है कि जिन लोगों ने 9 सितंबर के बाद के सफर के लिए राजधानी, शताब्दी या दुरंतो का टिकट कटा लिया है उनको कोई अतिरिक्त पैसा नहीं देना होगा लेकिन अब जो भी लोग कटाएंगे, उनको फ्लेक्सी फेयर सिस्टम के तहत डेढ़ गुना तक किराया देने के लिए तैयार रहना होगा.
 
इस पर लगातार सरकार को जनता की कड़ी प्रतिक्रिया मिल रही थी. जिसके बाद इस पर सफाई देने के लिए कल रेलवे ने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है.