लाहौर. 2008 के मुंबई हमले के मामले पाकिस्तान ने पिछले महीने लश्कर-ए-तैयबा के एक पूर्व आतंकवादी सूफियान जफर को गिरफ्तार किया था. पाकिस्तान की फेडरल इंवेस्टीगेशन एजेंसी (एफआईए) ने उसके खिलाफ कोई आरोप साबित नहीं होने की वजह से उसे बरी कर दिया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
सूफियान पर आरोप था कि मुंबई हमले के लिए 14,800 रुपये की रकम मुहैया कराई और हमले से पहले सह-आरोपी शाहिद जमील रियाज को 39.8 लाख रुपये दिए थे.
 
एफआईए के एक अधिकारी ने कहा कि जांच के दौरान उन्हें जफर के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिले हैं. पूरी जांच के दौरान इस बात को साबित नहीं किया जा सका कि उसने मुंबई मामले में गिरफ्तार एक संदिग्ध को वित्तीय मदद की थी. इसी कारण से इस मामले में सूफियान के खिलाफ कोर्ट में कोई चार्जशीट भी दायर नहीं की जाएगी. 
 
मुंबई मामले में भगोड़ा अपराधी घोषित किए जाने के बाद से सूफियान अज्ञात जगह पर छिपा हुआ था. उसे पिछले महीने ही खैबर पख्तूनख्वा से गिरफ्तार किया गया था.