नई दिल्ली . जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी और दिल्ली विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव के लिए मतदान शुक्रवार सुबह 9.30 बजे से शुरू हो गए थे. इन दोनों विश्वविद्यालयों में कुल 35 उम्मीदवारों ने भाग्य आजमाया हैं. कथित देश विरोधी नारेबाजी की घटना के बाद से दोनों विश्वविद्यालयों में इस बार चुनाव को लेकर काफी दिलचस्पी देखी जा रही है.
 
दोनों यूनिवर्सिटी में चुनाव के बाद अब नतीजों का इंतजार किया जा रहा है. डीयू शनिवार को छात्र संघ के नतीजों का ऐलान करेगी.
 
कन्हैया कुमार का संगठन चुनाव से गायब
देशविरोधी नारेबाजी में गिरफ्तारी झेल चुके जेनएयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार के संगठन एआईएसएफ ने इस बार चुनाव नहीं लड़ा है. मिली जानकारी के मुताबिक एक दूसरा वामपंथी छात्र संगठन आईसा के साथ उसकी सीटों को लेकर बात नहीं बनी.
लेकिन एआईएसएफ ने फैसला किया था कि अलग-अलग चुनाव लड़ने से भाजपा समर्थित एबीवीपी को फायदा हो सकता है इसलिए खुद को मैदान से बाहर कर लिया और आईसा के लिए प्रचार और वोट करने का फैसला किया था.
हालांकि देश विरोधी नारेबाजी की घटना के बाद से जिस तरह से एआईएसएफ के खिलाफ माहौल बना हुआ था, चुनाव से हटने की एक वजह यह भी मानी जा रही है.
 
डीयू में पता लगेगा दिल्ली का मूड ?
ऐसा माना जाता है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र संघ चुनाव के परिणाम दिल्ली का मूड बताते हैं. यहां पर मुख्य मुकाबला कांग्रेस से जुड़े एनएसयूआई और भाजपा के छात्र इकाई संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बीच है. 
 
कब आएंगे परिणाम
तय शेड्यूल के मुताबिक शनिवार को दोनों विश्वविद्लायों में छात्र संघ चुनाव के लिए हुए मतदान के परिणाम आ जाएंगे.