नई दिल्ली. सेक्स सीडी कांड के बाद भीतरी और बाहरी हमले झेल रही आम आदमी पार्टी (AAP) के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पंजाब चुनाव की कमान अब खुद संभालेंगे. इसके लिए वे 8 से 11 सितंबर तक पंजाब दौरे पर होंगे. दस दिन बाद स्वास्थ्य कारणों से वे बाहर रहेंगे, इसके बाद फिर पंजाब जाकर पार्टी को संभालेंगे.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
क्या कहा केजरीवाल ने ?
केजरीवाल ने कहा कि किसी भी कार्यकर्ता को चिंता करने की जरूरत नहीं है पार्टी में मौजूद गलत लोगों को खुद बाहर का रास्ता दिखाएंगे. जो कार्यकर्ता किसी बात से नाराज है उनसे बात करके मनाया जाएगा. उन्होंने कहा कि कांग्रेस, अकाली दल व BJP ने पंजाब का बेड़ा गर्क कर रखा है. पंजाब में AAP एक उम्मीद की किरण बनकर नजर आई है. 
 
 
केजरीवाल ने कहा कि मोदी सरकार ने काफी अड़चनें लगाई हैं इसके बावजूद दिल्ली सरकार ने काफी अच्छा काम किया है. पंजाब के लोग भी AAP को पसंद करने लग गए हैं, इससे पता चलता है कि पंजाब में भी AAP की सरकार बनकर रहेगी.
 
 
स्पेशल सीपी सेक्युरिटी टी एन मोहन के मुताबिक अभी तक CM केजरीवाल ने अपने पुरे 5 दिन के प्रोग्राम के बारे में नहीं बताया है, सिर्फ तीन दिन के प्रोगाम के बारे में बताया है. उन्होंने कहा कि उन्हें अभी तक ये भी नहीं बताया है की वो कब बापस दिल्ली लौटेंगे, उनके जवाब का इंतजार है. जिसके बाद जब CM दिल्ली के लिए वहां से निकलेंगे हमारे दो पीएसओ उनको लेने वहा जाएंगे.
 
गले के ऑपरेशन के लिए 10 दिन बेंगलुरू जाएंगे केजरीवाल
अरविंद केजरीवाल 13 सितंबर को गले के ऑपरेशन के लिए बेंगलुरू जाएंगे और आठ से 10 दिन तक वहीं आराम करेंगे. दरअसल पिछले कुछ सालों से अपनी खांसी से लगातार परेशान चल रहे केजरीवाल को पिछले हफ्ते मेडिकल रिपोर्ट देखने के बाद डॉक्टरों ने ऑपरेशन की सलाह दी थी. केजरीवाल बेंगलुरू में पिछले साल मार्च में नैचुरोपैथी से इलाज कराने से खांसी में बहुत राहत मिली थी, लेकिन इस साल जनवरी-फरवरी में 10 दिन के लिए फिर की गई नैचुरोपैथी से उन्हें ज्यादा फायदा नहीं मिला.