नई दिल्ली. बढ़ती महंगाई के बीच लोगों के लिए एक अच्छी खबर है. दालों के दाम आने वाले कुछ हफ्तों में और गिरने वाले हैं. दालों की कीमतों में अप्रैल से सिंतबर के बीच भी काफी गिरावट देखी गई है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
अंग्रेजी वेबसाइट फाइनेंशियल एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक खरीफ की अधिक बुआई और सरकारी भंडार खुलने के कारण हाल के कुछ हफ्तों में दालों के दाम तेजी से गिरे हैं और आगे भी दाम और कम होने की संभावना है. 
 
उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के अनुसार जुलाई में दालों की वार्षिक महंगाई दर 27.5 प्रतिशत बढ़ गई थी. इसके कारण खाद्य मंहगाई दर 8.4 फीसदी तक पहुंच गई थी. इन प्रोटीन से भरपूर दालों की कीमतें तबसे गिरनी शुरू हो गई हैं.
 
दालों की खुदरा कीमतों में आई कमी महानगरों और अन्य बड़े शहरों में साफ देखी गई थी. उपभोक्ता मामलों के विभाग के अनुसार दिल्ली में तुअर की दाल का मूल्य 29 अप्रैल को 159 रुपये था, जो 4 सितंबर को गिरकर 120 रुपये पर आ गया. इसी तरह मुंबई में यह मूल्य 153 रुपये से 117 रुपये पर आ गया है. उड़द की दाल की बात करें तो दिल्ली में 29 अप्रैल को इसके दाम 171 रुपये थे, जो 4 सितंबर तक घटकर 142 रुपये हो गए.
 
वहीं, मूंग के दाम दिल्ली में 29 अप्रैल को 104 रुपये थे, जो 4 सितंबर तक गिरने के बाद 87 रुपये पर आ गए. मुंबई में उड़द की कीमत 123 रुपये से 85 रुपये पर पहुंच गई है. मसूर की दाल दिल्ली में अप्रैल में 94 रुपये थी, जो सिंतबर में घटकर 87 रुपये हो गई. मुंबई में दाल के दाम 93 रुपये से 87 पर पहुंच गए हैं.  
 
खाद्य मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक अक्टूबर और नवंबर तक खरीफ की दालें बाजार में पहुंचन से दालों के दाम और तेजी से गिर जाएंगे. खाद्य मंत्री राम विलास पासवान का कहना है कि बफर स्टॉक बढ़ाकर सरकार के बाजार में हस्तक्षेप करने के उपायों और खरीफ की फसल अधिक होने से अगले कुछ हफ्तों में कीमतें और गिरने की संभावना है. साथ ही सरकार दालों की खरीद के लिए भी रोडमैप तैयार कर रही है.