नई दिल्ली. अपने भड़काऊ भाषणों से आतंकवादियों को प्रेरित करने के आरोपों में घिरे जाकिर नाइक के खिलाफ सरकार जल्द आतंकवाद विरोधी कानून के तहत मुकदमा दर्ज कर सकती है. इतना ही नहीं जाकिर नाइक के साथ-साथ उनकी एनजीओ इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के खिलाफ भी कड़ा कदम उठाया जा  सकता है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
इस मामलें को लेकर जो खबर सूत्रों के हवाले से सामने आई है उसके अनुसार गृह मंत्रालय ने इस बारे में कानूनी राय ली है. विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार जाकिर नाइक पर ऐक्शन की यह तैयारी उनके भाषणों की जांच के बाद की गई है. 
 
सूत्रों के अनुसार नाइक के खिलाफ कानूनी राय देते हुए गृह मंत्रालय को सूचित किया गया है कि ‘नाइक की तरफ से  यह देखा गया है कि वह सोच समझ कर इस तरह के भाषण देते हैं जिनसे धार्मिक समुदायों के बीच नफरत का माहौल पनपता है. 
  
बता दें कि नाइक सुरक्षा एजेंसियों की नज़रों में तब आया जब बांग्लादेश के डेली स्टार नाम के अखबार ने ढाका में हुए आतंकवादी हमले की रिपोर्ट प्रकाशित करते हुए कहा था कि हमले से जुड़े रोहन इम्तियाज़ नाम के आतंकवादी ने साल भर पहले नाइक का नाम इस्तमाल करते हुए फेसबुक पर प्रोपेगैंडा चलाया था.