नई दिल्ली. हॉकी के जादूगर स्व. मेजर ध्यानचंद का आज 111 वां जन्म दिन मनाया जा रहा है. ध्यानचंद का जन्म 29 अगस्त 1905 को हुआ था. इस मौके पर आज राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी खिलाड़ियों को खेल अवॉर्ड प्रदान करेंगे. राष्ट्रीय खेल  दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने खेलप्रमियों को मुबारकबाद दी है. इससे पहले 28 अगस्त को मेजर ध्यानचंद को भारत रत्न देने की मांग उठी. जिसके समर्थन में सैकड़ों खिलाड़ी जंतर-मंतर पर एकत्र हुए. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
देशभर में आज हॉकी के जादूगर कहे जाने वाले स्व मेजर ध्यानचंद का जन्मदिन धूमधाम से मानाया जा रहा है. एस दिन को भारत सरकार राष्ट्रीय खेल दिवस के रुप में भी मनाती है. इस दिन राष्ट्रपति खेलों में शानदार प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को खेल पुरुस्कार प्रदान करते हैं. इस बार संभावना है कि खेल इतिहास में पहली बार एक साथ चार खिलाड़ियों (पीवी सिंधू, साक्षी मलिक, दीपा करमाकर, जीतू राय) को राजीव गांधी खेल रत्न पुरुस्कार दिया जाएगा. इसके अलावा अर्जुन और द्रोणाचार्य अवॉर्ड्स भी आज ही खिलाड़ियों और कोचों को दिए जाएंगे. 
 
बता दें कि इससे पहले कल (28 अगस्त) को हॉकी के जादूगर ध्यानचंद को भारत रत्न दिलाने की मांग ने और भी जोर पकड़ लिया. कई पूर्व दिग्गज खिलाड़ी रविवार को जंतर मंतर को इकठ्ठा हुए. जिनमें  ध्यानचंद के बेटे अशोक कुमार, 1975 में भारत को खिताबी जीत दिलाने वाले अजित पाल सिंह, जफर इकबाल, दिलीप टिर्की ने मोदी सरकार से ध्यानचंद को भारत रत्न देने की मांग की. 
 
बता दें कि ध्यानचंद का खेल जीवन शानदार रहा है. उन्होंने खेल करियर में 1000 से ज्यादा गोल किए हैं. साथ ही उनकी कप्तानी में भारत ने 1928, 1932 और 1936 में ओलंपिक स्वर्ण पदक जीते हैं.