नई दिल्ली. वेटिकन सिटी में मदर टेरेसा को संत घोषित करने के लिए आयोजित होने वाले कार्यक्रम में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज उस 12 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगी जो भारत का प्रतिनिधित्व करेगा. मदर टेरेसा को संत घोषित करने वाला यह कार्यक्रम चार सिंतबर को होगा. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा के दूसरे चमत्कार को मान्यता दे दी थी. इसके बाद मदर टेरेसा को संत घोषित किए जाने की संभावना और प्रबल हो गई थी. मदर टेरेसा को कोलकाता की झुग्गी बस्तियों में उनके काम के लिए शांति के नोबेल पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था. उनका 1997 में निधन हुआ था.
 
 
कौन-कौन होंगे शामिल ?
मदर टेरेसा को संत घोषित करने के लिए आयोजित कार्यक्रम में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ 12 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल जाएगा, जिनमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, खाद्य प्रसंस्करण मंत्री हरसिमरत कौर बादल, लोकसभा सांसद प्रो के वी थामस, एंटो एंथनी, जोस के मणि, कानराड के संगमा, सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ, गोवा के उप मुख्यमंत्री फ्रांसिस डीसूजा, वकील हरीश साल्वे, केजे एलफोंस, कैथोलिक बिशप्स कान्फ्रेंस ऑफ इंडिया के सेकेटरी जनरल टी मास्कैरेनहांस भी शामिल होंगे. विदेश मंत्रालय में सचिव (पश्चिम) सुजाता मेहता भी प्रतिनिधिमंडल में होंगी.