कानपुर. उत्तर प्रदेश में कानपुर के रहने वाले डॉ. एस. अहमद और उनका परिवार पिछले कई सालों से देशभर के लिए सांप्रदायिक सौहार्द का बेहतरीन उदाहरण प्रस्तुत करते रहे हैं. डॉ. अहमद 28 सालों से लगातार कृष्ण जन्माष्टमी का उत्सव बड़े धूमधाम और उत्साह से मनाते आ रहे हैं. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
डॉ. अहमद बताते हैं, ‘मैं और मेरा परिवार पूरी श्रद्धा और जोश के साथ श्रीकृष्ण के जन्म का उत्सव मनाते हैं. हम ऐसा पिछले कई सालों से कर रहे हैं. जन्माष्टमी पर डॉ. अहमद के इस श्रद्धाभाव को आसपड़ोस के लोग भी बेहद सम्मान और समथर्न देते हैं. यहां तक की उनके घर में बनी झांकी को देखने के लिए भी लोगों की भीड़ लगी रहती है. 
 

आज जहां कई राजनेता अपने फायदे के लिए भड़काऊ बातें कहकर हिंदू-मुस्लिमों में दूरियां बढ़ाने की कोशिश करते हैं, वहीं यह आम आदमी उसी दूरी को पाटने का हर संभव प्रयास कर रहा है. हिंदू—मुस्लिम सभी डॉ. अहमद के इस प्रयास की सराहना करते हैं और उन्हें एकता की मिसाल मानते हैं.

पढ़ें: पूरे देश में जन्माष्टमी की धूम, जोरशोर से चल रहीं तैयारियां

डॉ. अहमद कहते हैं कि उनकी भगवान कृष्ण में बहुत श्रद्धा है. इससे उनके घर में शांति और खुशियां आई हैं. साथ ही वह इसके माध्यम से सभी को आपसी सौहार्द का संदेश भी देना चाहते हैं. 

पढ़ें: जन्माष्टमी पर दही हांडी उत्सव शुरु, गोविंदा अपना रहे विरोध के अनूठे तरीके