लखनऊ. यूपी पुलिस के एंटी टेररिस्ट स्कैव्ड और राजस्थान सीआईडी ने राजधानी लखनऊ से एक संदिग्ध आईएसआई एजेंट जमालुद्दीन को गिरफ्तार किया है. मूल रूप से गाजीपुर के रहने वाले इस एजेंट को संयुक्त आॅपरेशन में मंगलवार देर शाम को पकड़ा गया था. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
एटीएस के अतिरिक्त महानिदेशक दलजीत चौधरी ने कहा कि जमालुद्दीन भारत में आईएसआई के लिए काम करने वाले दूसरे एजेंटों को पैसे मुहैया करवाता था. आईएसआई उसे यूएई के रास्ते पैसे देती थी.
 
फिलहाल जमालुद्दीन से कई सुरक्षा एजेंसियां पूछताछ कर रही हैं. उसे बुधवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा, जहां पूछताछ के लिए उसकी रिमांड की मांग की जाएगी. जमालुद्दीन ने खेटोलाई में पटवारी गोवर्धन सिंह राठौड़ को पैसे पहुंचाए थे. पोखकरण जिले के रहने वाले गोवर्धन पर पोखरण और आसपास के क्षेत्रों में भारतीय सेना के बारे में संवेदनशील सूचनाएं पाकिस्तान की आईएसआई को देने का आरोप है. 
 
गोवर्धन सेना में काम कर चुका है. सेवानिवृत्ति के बाद वह पोखरण में पटवारी था. यूपी एटीएस की सूचना पर राजस्थान पुलिस ने 27 दिसंबर 2015 को उसे गिरफ्तार किया था. जिसके बाद उसकी निशानदेही पर ही जमालुद्दीन की गिरफ्तारी हुई। अब जांच एजेंसियां जमालुद्दीन के जरिए आईएसआई से पैसे प्राप्त कर रहे अन्य एजेंटों तक पहुंचने की कोशिश करेंगी.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App