पटना. बिहार में गंगा नदी उफान पर है और अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए राजधानी पटना के कुछ हिस्सों में गंगा का पानी घुस आया है. इसे ध्यान में रखते हुए केंद्रीय जल आयोग ने गंगा नदी के किनारे बसे गांवों को चेतावनी जारी कर दी है. इन्हें चेतावनी जारी कर कहा गया है कि आने वाले पांच दिनों में गंगा के जलस्तर में वृद्धि हो सकती है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
बता दें कि पहले ही राज्य में कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. ऐसे में राज्य के मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह ने आपात बैठक बुला कर बाढ़ की स्थिति की समीखा की. आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार गंगा के जलस्तर में वृद्धि के कारण गंगा किनारे स्थित सभी जिले इससे प्रभावित हुए हैं. इसका सबसे ज्यादा असर पटना के वैशाली और डियर क्षेत्र  में देखने को मिला है.
PC: Ved Prakash
 
इन दो क्षेत्रों के अलावा बेगूसराय, मुंगेर, भागलपुर और  भोजपुर भी इस से प्रभावित हुए हैं. आपदा प्रबंधन विभाग के अलावा केंद्रीय जल आयोग ने भी बिहार में बाढ़ की स्थिति को गंभीर बताया है. इतना ही नहीं आने वाले दिनों में जल स्तर के बढ़ने की चेतावनी को देखते हुए वायु सेना और सेना को अलर्ट कर दिया गया है. 
 
बावजूद इस सबके बारे में  राज्य जल संसाधन विभाग ने कहा है कि स्थिति नियंत्रण में है और घबराने की कोई बात नहीं है. जल संसाधन मंत्री ललन सिंह के अनुसार राज्य सरकार के अनुरोध पर फरक्का बैराज के सभी फाटक खोल दिए गए हैं ताकि बाढ़ का पानी तेजी से निकल सके. 
 
 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App