लखनऊ. बीएसपी प्रमुख मायावती को अपशब्द कहने वाले बीजेपी के पूर्व नेता दयाशंकर सिंह हाईकोर्ट से राहत नहीं मिली है. इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने दयाशंकर की गिरफ्तारी पर रोक लगाने से इनकार कर दिया है. अब मामले की अगली सुनवाई 8 अगस्त को होगी.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
दयाशंकर सिंह ने एफआईआर को रद्द करवाने और गिरफ्तारी को रोक लगाने की मांग को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच में याचिका दाखिल की थी. बता दें कि दयाशंकर के खिलाफ गैर जमानती वारंट भी जारी है.
 
BJP के पूर्व नेता दयाशंकर सिंह यूपी पुलिस से फरार चल रहे हैं लेकिन इस बीच वो झारखंड के देवघर के वैधनाथ मंदिर में देखे गए थे. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दयाशंकर सिंह शनिवार को देवघर पहुंचे और बाबा बैघनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना की. बता दें कि मंदिर से उनकी एक तस्वीर सामने आई है.   
 
 
क्या है मामला ? 
दयाशंकर सिंह ने मायावती की तुलना वेश्या से कर दी थी, जिसके बाद लोकसभा और राज्यसभा से काफी बवाल मच. इसके बाद बीजेपी ने दयाशंकर को 6 साल के लिए निकाल दिया है. इसके अलावा पार्टी ने प्रदेश बीजेपी उपाध्यक्ष पद से भी उन्हें हटा दिया है. यूपी में इस बीच उनके खिलाफ केस भी दर्ज कराया गया और  गैर जमानती वारंट भी जारी किया गया. 
 
 
मायावती ने बोला हमला
दयाशंकर के देवघर में दिखने के बाद मायावती ने BJP पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि भले ही दुनिया को दिखाने के लिए बीजेपी ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया हो लेकिन उन्हें बीजेपी के कई लोग मदद कर रहे हैं. मायावती ने कहा कि दयाशंकर सिंह बीजेपी शासित राज्य में भी छिपे हुए हैं. इसमें उनकी मदद बीजेपी के बड़े-बड़े नेता कर रहे हैं. 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App